अतीक, दिलीप, राजेश से भी दबंग शिव प्रसाद शुक्ल के आगे नतमस्तक पीडीए व सरकार ?

0
125

●के.वि.इ. के प्रोफेसर के पास यूपी से गुजरात तक अकूत अवैध सम्पत्ति का मायाजाल
● रिश्तेदारों व पड़ोसियों तक को बनाया भवन स्वामी
● पीडीए के वीसी व जोनल तक मुट्ठी में ● मानक विहीन, नक्शा विहीन, अवैध तीसरे मंजिल की तैयारी

पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
नैनी, प्रयागराज

तू डाल-डाल मैं पात-पात की कहावत चरितार्थ करते हुए केंद्रीय विश्वविद्यालय इलाहाबाद के हिन्दी विभाग के प्रोफेसर डॉ. शिव प्रसाद शुक्ल के दबंगई के आगे वीसी व जोनल अधिकारी सहित पूरा प्रयागराज विकास प्राधिकरण तथा सरकार तक नतमस्तक है। प्रयागराज के अतीक अहमद, दिलीप मिश्र व राजेश यादव तक के आलीशान भवन को ध्वस्त करने वाले बुलडोजर इस दबंग प्रोफेसर के मकान की तरफ स्टार्ट होने से भी कतराते हैं। जानकारी के अनुसार डॉ. शिव प्रसाद शुक्ल (प्रो. हिंदी, केंद्रीय इलाहाबाद विश्व विद्यालय) ने प्रयागराज महानगर के नैनी क्षेत्र के गंगापुरम, पीडीए कालोनी व गुजरात के कई स्थानों पर अपनी दूसरी पत्नी प्रमिलेश शुक्ला व उसके बेटे अटल शुक्ल, पहले पत्नी से उतपन्न पुत्र चन्द्रेश शुक्ल, बेटी निशा देवी, दामाद कीर्ति प्रकाश मिश्र व अन्य रिश्तेदारों व पड़ोसियों तक के नाम से अनगिनत प्लाट व भवन का निर्माण करा रखा है। चंद वर्ष पहले गुजरात से यूपी के प्रयागराज में आकर बसा यह प्रोफेसर आज अकूत नामी व बेनामी सम्पत्ति का मालिक है।

बता दें कि केंद्रीय विश्वविद्यालय इलाहाबाद, प्रयागराज विकास प्राधिकरण व यूपी सरकार से कई राज्यों में ऊंची पकड़ वाले इस प्रोफेसर के विरुद्ध विश्वविद्यालय तथा पीडीए में अनेकों शिकायतें व आरटीआई डालने वाले भी अंततः थक-हार कर इसे प्रयागराज का सबसे दबंग व्यक्ति मानने को मजबूर हो चुके हैं जबकि दिखावे की नोटिस भेजने के बाद पीडीए के जोनल अधिकारी स्वयं खड़े होकर इस प्रोफेसर का मकान बनवाने में मदद कर रहे हैं। उधर प्रोफेसर साहब अब प्रयागराज के नैनी स्थित गंगापुरम के अपने आलीशान महल के तीसरे मंजिल का निर्माण कराने की तैयारी में हैं जबकि प्रयागराज विकास प्राधिकरण के वीसी, जोनल अधिकारी व अन्य कर्मचारी इसी जनवरी 2021 में दबंग प्रोफेसर के इसी अवैध निर्माण में दावत छकने का इंतजार कर रहे हैं।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस प्रोफेसर से पंगा लेने तक की हिम्मत प्रयागराज की धरती के लोग नही करते क्योंकि वह प्रयागराज में बने रहना चाहते हैं। फिलहाल दबी जुबान से प्रयागराजवासी यह कहने लगे हैं कि आखिर अतीक अहमद, दिलीप मिश्र, राजेश यादव, विजय मिश्र, गणेश यादव आदि के निर्माण को ढहाने वाले बुलडोजर को इस दबंग प्रोफेसर का अवैध निर्माण क्यों नही दिखता? इसी बहाने अब लोग यूपी सरकार के भ्रष्टाचार के विरुद्ध जीरो टॉलरेंस पर भी सवालिया निशान लगा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here