अलीदापुर के गौराबाजार में एक दुकान पर रखी जा रही इफ्को खाद, बार्डर पर बढ़ी तस्करों की आमदनी, दुकानदार भी मालामाल, विभाग मौन, आखिर कौन है जिम्मेदार?

0
89

आर. एस. यादव की रिपोर्ट
कपिलवस्तु, सिद्धार्थनगर

क्षेत्र के किसानों को खाद की किल्लत कराने वाले तस्करी में लिप्त लोगो ने अभी धान की फशल कटी नही कि, कोतवाली बार्डर क्षेत्र के तस्कर उर्बरक को नेपाल भेजने में सक्रिय हो गये, जिसमे सेमरा, बनगाई, पोखरभिटवा, रामनगर, गौरी, ठाकुरापुर आदि गांव में भंडारण किया जा रहा है, एसएसबी की तैनाती हटते ही तस्कर मौका देख सुबह पांच बजे से सात बजे तक बार्डर पार करा देते है, नेपाल में भारतीय मूल्य 266 रुपये की यूरिया सात सौ रुपये में, 1150 का डीएपी 1690 रुपये तक बिक्री करते है। समय के अनुसार दाम में बृद्धि भी हो जाती है, जिसे नेपाल प्रशासन नही करती है हस्ताक्षेप, जब तक क्षेत्र के किसानों को उर्वरक की जरूरत पड़ेगी तब तक दुकानों से गायब हो जाएगा खाद, बार्डर क्षेत्र के अलीदापुर गौराबाजार, मोहनपुर, बर्डपुर, दुकानों से नेपाल भेजी जाती है। इफ्को सरकारी खाद, जो बग्गी, मोटरसाइकिल, टैम्पो पर लोड कर खाद भेजी जाती है। बार्डर क्षेत्र के कई ऐसे गांव है जहाँ गोदाम बनाया गया है। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या कृषि विभाग मामले से अनजान है?

ग्रामीण विजय चौरसिया, मो मुस्तकीम, सबरे आलम, अबुलकलाम आजाद, राजकुमार पंकज चौबे, अब्दुल अजीज, दिलीप कुमार, रियाज अहमद, अहसन जमील, गौरी शंकर केशरी नरायन पांडेय, ने कृषि विभाग अधिकारियों से मांग किया है की किसान हित को देखते हुए दुकानदारों के अबैध विक्री पर अंकुश लगाने का कार्य करें। तहसीलदार शोहरतगढ़ राजेश अग्रवाल ने कहा व्यस्तता अधिक है, संबंधित विभाग समझे, फिर भी कानूनगो को भेजवा कर जांच करवाते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here