चर्चित बोहली हत्या में गाँव का प्रेम निकला हत्यारा, विधायक राघवेंद्र प्रताप सिंह व श्यामधनी राही के अल्टीमेटम बाद पुलिस ने किया खुलाशा, पुलिस टीम ने दीपक दूबे हत्याकांड में 2 को भेजा जेल

0
347

● सत्ता पक्ष सहित अनेक राजनीतिक दलों के जनप्रतिनिधियों समेत अधिकारियों ने की थी पीड़ित परिजनों से मुलाकात।

● मृतक दीपक दूबे की डूबा कर की गई थी हत्या, लाश को भी तालाब में छिपाया, लेकिन घटना की बजह का नही हुआ खुलाशा।

पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
सिद्धार्थनगर

सिद्धार्थनगर पुलिस टीम ने रविवार को शोहरतगढ़ थाना क्षेत्र के चर्चित हत्याकाण्ड का खुलाशा कर दिया। जनपद मुख्यालय से प्रेस नोट जारी करते हुए दीपक दूबे की हत्या का पर्दाफाश किया गया।

जनपद मुख्यालय से प्रेस नोट जारी हुआ कि पुलिस अधीक्षक राम अभिलाष त्रिपाठी के आदेश के क्रम में “अपराध एवं अपराधियों के विरूद्ध चलाये जा रहे अभियान” के अऩ्तर्गत मायाराम वर्मा अपर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर के कुशल पर्यवेक्षण में राणा महेंद्र सिंह, पुलिस उपाधीक्षक शोहरतगढ़ के कुशल निर्देशन में दिनांक 04.10.2020 को समय 15:10 बजे रामअशीष यादव, प्रभारी निरीक्षक शोहरतगढ़ के नेतृत्व में थाना शोहरतगढ़ पर पंजीकृत मु.अ.सं. 247/20 धारा 302,201 भा.द.वि. से सम्बन्धित अभियुक्तगण 1. प्रेम यादव उर्फ छोटू पुत्र गोरख यादव 2. गुड़िया पुत्री स्व0 राम उजागिर निवासीगण बोहली थाना शोहरतगढ़ को गिरफ्तार मा. न्यायालय भेजा गया । उन्होंने प्रेस नोट में यह भी लिखा कि अभियुक्तो द्वारा दीपक दुबे पुत्र दुखहरन निवासी ग्राम बोहली थाना शोहरतगढ़ जनपद सिद्धार्थनगर की डूबा कर हत्या कर लाश को तालाब मे छिपा दिया गया था । घटना के खुलाशे में प्रभारी निरीक्षक राम अशीष यादव, हे का. कृष्ण प्रताप त्रिपाठी का. सुनील कुमार शाह, म.का. कुमारी वन्दना की भूमिका सराहनीय बताई जा रही है।

विदित हो कि 17 सितम्बर को दीपक दूबे के साथ परिजन सोने के लिए चले गए और वह 18 सितम्बर को नही मिला। 20 सितम्बर को देर शाम को गाँव के उत्तर दिशा में स्थित तालाब में उसकी लाश मिली, प्रथम दृष्टया लाश को देखने पर लगा रहा था कि धारदार वस्तु से मृतक की निर्मम हत्या की गई थी। जिसकी तहरीर मृतक के पिता दुखरन दूबे ने शोहरतगढ़ थाने पर दे दी थी। काफी जंग के बाद स्थानीय जनप्रतिनिधियों की मदद से बोहली संदिग्ध हत्याकाण्ड में मुकदमा पंजीकृत हुआ था। पूर्व विधानसभा अध्यक्ष व सपा नेता माता प्रसाद पाण्डेय सहित, सपा नेता उग्रसेन सिंह, काँग्रेस नेता चंद्रेश उपाध्याय सत्ता पक्ष के स्थानीय विधायक अमर सिंह चौधरी, सांसद प्रतिनिधि सूर्य प्रकाश पाण्डेय, हियुवा सुभाष गुप्ता, हियुवा अजय सिंह, डुमरियागंज विधायक राघवेन्द्र प्रताप सिंह, कपिलवस्तु विधायक श्यामधनी राही, कौशलेंद्र त्रिपाठी समेत ब्राह्मण सभा के दिग्गज नेता व अधिकारियों ने पीड़ित परिवार को सांत्वना दी थी। बीते दिनों डुमरियागंज व कपिलवस्तु विधायक ने 48 घण्टे के अन्दर घटना का खुलासा करने का अल्टीमेटम दिया था।

पुलिस टीम ने चर्चित बोहली हत्याकांड का खुलासा कर दिया लेकिन खुलाशे बाद अब भी कई सवाल जानने बाकी है, कि जिस लड़के को लड़की के साथ जेल भेजा गया उसका एक दूसरे से सम्बन्ध क्या था? यह कि घटना में शामिल कोई हथियार भी था कि नही? यह कि हत्या का कारण क्या था? जैसे कई सवाल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here