खरीफ उत्पादकता गोष्ठी का आयोजन में सीडीओ ने कृषि से संबंधित उपकरण, जैविक स्टाल, पशुपालन, इफको, बीज, खाद एवं कृषि यंत्रों के स्टालों का किया अवलोकन

0
528

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज

बीते मंगलवार को मुख्य विकास विकास अधिकारी, प्रयागराज की अध्यक्षता में जनपद स्तरीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी का आयोजन उत्तर मध्य क्षेत्र सांस्कतिक केन्द्र, प्रयागराज के प्रेक्षागृह में किया गया। मुख्य विकास अधिकारी द्वारा कृषि से संबंधित उपकरण, जैविक स्टाल, पशुपालन, इफको, बीज, खाद एवं कृषि यंत्रों के स्टालों का अवलोकन किया गया। अवलोकन के उपरान्त प्रेक्षागृह में दीप प्रज्जवलन किया गया। खरीफ उत्पादकता गोष्ठी में खरीफ के संबंध में कृषि निवेशों, बीज, खाद के0सी0सी0, उर्वरक की उपलब्धता किसानों को ससमय सुनिश्चित कराने के निर्देश जिला कृषि अधिकारी को दिया गया। सिंचाई व्यवस्था के लिए सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि रोस्टर के अनुसार नहरो का संचालन सुचारु रूप से सुनिश्चित करें, जिससे कृषकों की नर्सरी ससमय पड सके। मुख्य विकास अधिकारी द्वारा बिजली एवं नलकूप विभाग के अधिकारियों को शासन की मंशा के अनुरूप खरीफ सीजन में ग्रामीण क्षेत्रों में 20 से 22 घण्टे बिजली देने के निर्देश दिये गये तथा तालाबों को नहर के माइनर से जोड़कर पानी भरवा दें जिससे कृषकों को सिंचाई एवं पशुओ को पानी की उपलब्धता बनी रहे।
उप कृषि निदेषक, प्रयागराज द्वारा खरीफ रणनीत पर विस्तृत चर्चा की गयी और किसानों से अनुरोध किया गया कि ससमय नर्सरी डालने तक खरीफ की फसल ससमय की जा सके। किसान सम्मान निधि योजनान्र्गत किसानों को 2000 रुपये दिये जाने के संबंध अवगत कराया गया कि लेखपाल एवं कृषि विभाग के सहयोग से अपना आवेदन भर कर राजकीय कृषि बीज भण्डार पर जाकर पोर्टल पर फीड कराये, जिससे कृषकों को उनके खाते में धनराशि हस्तान्तरित की जा सके। जिला कृषि अधिकारी डा0 अश्वनी कुमार सिंह द्वारा बताया गया कि जनपद में बीज, उर्वरक की पर्याप्त मात्रा में उपलब्धता है। कृषकों से अनुरोध किया कि प्रत्येक विकासखण्ड के गोदामों से बीज लें, जिससे 50 प्रतिशत अनुदान प्राप्त कर सकते हैं। जनपद में पर्याप्त मात्रा में यूरिया, डी0ए0पी0 एम0ओ0पी0 एवं एस0एस0पी0 उपलब्ध है। जनपद में कुल खरीफ में 214000 हेक्टेयर का लख्य रखा गया, जिसमंे सबसे अधिक धान 157000 हेक्टेयर में धान की खेती का लख्य निर्धारित है। धान की की उत्पादकता 31.4 प्रति हेक्टेयर निर्धारित किया गया। जिसके लिए बीज प्रतिस्थापन का 52 प्रतिशत लक्ष्य निर्धारित है। जनपद में 15898 कु0 धान का बीज उपलब्ध है तथा संकर प्रजाति का लगभग 8000 कुं0 जनपद में लक्ष्य निर्धारित किया गया। जिसकी शतप्रतिशत उपब्धतता सुनिश्चित कर ली गयी है। कृषि विज्ञान केन्द्र के श्री डा0 मदन सेन, डा0 मुकेश पी0एम0, श्री टी0डी मिश्रा एवं शुआट्स के डा0 अजय चैहान वैज्ञानिकों द्वारा किसानों को वैज्ञानिक तकनीकों के बारे में विस्तृत जानकारी प्रदान की गयी। अन्त में मण्डलीय अधिकारी श्री आर0बी0 सिंह संयुक्त कृषि निदेशक प्रयागराज द्वारा किसानों को तकनीकी खेती एवं कृषि निवेशों एवं के0सी0सी0 के बारे तकनीकी जानकारी दी गयी। श्री इन्द्रजीत यादव कृषि रक्षा अधिकारी प्रयागराज द्वारा बीज उपचार, कीट रोग की रोकथाम के बारे में कृषकों को विस्तृत जानकारी दी गयी तथा फसल हेतु पर्याप्त मात्रा में खरपतवारनाशी रसायन उपलब्ध है। गोष्ठी में इफकों संस्था द्वारा किसानों को मोनो जिंक का वितरण मुख्य विकास अधिकारी के द्वारा किया गया। यह जानकारी उप कृषि निदेशक
प्रयागराज द्वारा दी गई है।