प्रयागराज से बड़ी खबर- बीएसए के कृपापात्र अवैध विद्यालय में नाबालिग छात्रा के आरोपी अपहरणकर्ताओं को लेनदेन कर पुलिस ने छोड़ा

0
496

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज

प्रयागराज के बीएसए के कृपापात्र एक अवैध विद्यालय में एक नाबालिग छात्रा के आरोपी अपहरणकर्ताओं को पुलिस ने लेनदेन के बाद छोड़ दिया है।
जानकारी के अनुसार संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज के बेहद करीबी व कृपापात्र सूर्यमणि कुशवाहा बतौर प्रबन्धक एक मानक विहीन, गैर मान्यता प्राप्त अवैध व अमान्य विद्यालय एस0एम0 पब्लिक स्कूल, बसरिया का संचालन विगत कई वर्षों से कर रहे हैं जिसकी प्रधानाचार्या भी प्रबन्धक की ही पत्नी रीता कुशवाहा हैं। इस विद्यालय की पूर्व में की गई शिकायत पर जुलाई 2017 में मात्र सात दिन के लिए यह विद्यालय बन्द भी कर दिया गया था परन्तु संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज के बेहद करीबी होने व उनके कृपापात्र होने के कारण यह अवैध विद्यालय खुले आम नियमो को ताक पर रखकर पुनः संचालित हो गया। इसी अवैध विद्यालय का शिक्षक सन्तोष राव जो काफी दिन से अपनी एक नाबालिग छात्रा को परेशान कर रहा था जिसकी शिकायत उस बच्ची के द्वारा अपने अभिभावक से करने पर अभिभावक ने प्रबन्धक व प्रधानाचार्या से किया था। ताजा प्रकरण के अनुसार उपरोक्त शिक्षक सन्तोष राव जोकि तरौल के अमवा का निवासी है इसी विद्यालय के कक्षा 7 की एक नाबालिग छात्रा को कुछ सुंघाकर स्कूल टाइम में ही 02 मई 2019 को अपहरण कर लिया है जिसके बाद लिखित तहरीर मिलने पर 05 मई 2019 को ही थानाध्यक्ष करछना ने शिक्षक सन्तोष राव, प्रबन्धक सूर्यमणि कुशवाहा व उनकी पत्नी प्रधानाचार्या रीता कुशवाहा के खिलाफ अपहरण व साजिश का एफआईआर दर्ज करके जांच कार्यवाही शुरू कर दी है। उधर नाबालिग छात्रा की बरामदगी न हो पाने पर उसके परिजनों ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक प्रयागराज को भी प्रार्थना पत्र देकर न्याय की गुहार लगाई है। फिलहाल इस घटना से स्थानीय नागरिकों में भारी आक्रोश व्याप्त है व लोग दबी जुबान से संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज के करीबी व कृपापात्र इस अवैध विद्यालय में अपहरण की घटना के बाद कबूतरबाजी की भी आशंका व्यक्त कर रहे हैं। स्थानीय लोगों में आक्रोश के बाद पुलिस ने हवा में हाथ पैर मारने शुरू किए ही थे कि उसे सूचना मिली कि अपहृत नाबालिग को तीन दिन तक कोरांव में रखा गया था जिसके बाद कई लोगों को करछना थाने की पुलिस ने उठाया व दिन भर थाने में बिठाकर पंचायत की तथा सूत्रों के अनुसार लम्बे लेनदेन के बाद आरोपियों को पुलिस ने छोड़ दिया है। उधर अपहृत नाबालिग छात्रा के परिवारीजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। लोग दबी जुबान से कह रहे हैं कि संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए की ऊंची पकड़ व उनके करीबी का यह अवैध विद्यालय होने के कारण शासन में पकड़ के कारण पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी है।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here