दैनिक उपयोग के लिए मध्यप्रदेश से पानी लाने को मजबूर है ग्रामवासी, यू पी के गाँव में बरकरार है पानी की किल्लत, ऐसी समस्याओं के लिए क्या है सरकार के पास कोई ठोस योजना?

0
789

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज / शंकरगढ

यह तस्वीर प्रयागराज जिले की बारा तहसील के शंकरगढ ब्लाक के लखनपुर पंचायत के हिनौती पांडेय गांव की है। इस गांव में हर साल गर्मी में पानी के लिए हाय-तौबा मचती है। चुनाव के समय पानी देने का वचन देने वाले चुनाव के बाद नजर ही नहीं आते। ऐसे हालात में गांव की महिलाएं और बच्चियां गांव से 3 कि.मी. दूर मध्य प्रदेश से पानी लाने के लिए मजबूर हैं। लाख करोड़ों रुपए का खर्च बेकार इसी का दूसरा पहलू है कि सरकार के पास कोई ठोस योजना नहीं इस समय पानी की एक-एक बूंद के लिए शंकरगढ की प्रजा हाथ-पैर जोड़ रही है। ऐसे में सरकार के पास पानी की समस्या को हल करने के लिए कोई ठोस योजना नहीं है। सरकार लोगों के पास पानी पहुंचाने के बजाए पानी के लिए योजना बना रही है स्थानीय प्रशासन जलापूर्ति में पूरी तरह से विफल साबित हुआ है। जल समस्या के कारण महिलाएं और बच्चियों का अधिकांश समय पानी लाने में ही निकल जाता है। कई लोग पलायन कर रहे हैं। सरकार के पास देने के लिए केवल वादे ही हैं।