माफियाओं के संरक्षण में शिक्षा विभाग, ऐसा हुआ कारनामा जिसके चक्कर मे चकरा गए दो बोर्ड, कहानी कलमकार की जुबानी

0
1098

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज

प्रयागराज में एक माँ की ममता ने अपने बेटे के जरिये एक अजबी गजब अजूबा गढ़ दिया है जिसके चक्कर मे दो बोर्ड तक चकरा गए हैं।
जानकारी के अनुसार पूजा चन्दोला पत्नी महेश चंद्र चन्दोला लगभग दो दशक से महर्षि विद्या मंदिर, एडीए कालोनी, नैनी, प्रयागराज में प्रधानाचार्य हैं।उन्होंने अपने बल पर बिना मान्यता के ही 2007-09 तक इंटर की कक्षाएं चलाई व उसमे अपने बेटे सहित कुल 18 बच्चों का दाखिला लिया एवं उन सभी 18 विद्यार्थियों का दाखिला व पंजीकरण इंटर के लिए ही सीबीएसई बोर्ड के स्कूल महर्षि विद्या मंदिर, ओल्ड मुगल रोड, फतेहपुर में भी रेगुलर करा दिया जबकि यह जांच का विषय है कि ये सभी नाबालिग 18 बच्चे अकेले फतेहपुर में कहां रहकर पढ़ाई किये जबकि वे सभी प्रयागराज के निवासी व महर्षि विद्या मंदिर नैनी में रेगुलर ही पढ़ाई भी करते थे। बता दें कि पूजा चन्दोला ने नियमो के विपरीत अपने बेटे कार्तिकेय चन्दोला को 2008-09 में ही 125 किमी की दूरी पर स्थित 03 स्कूल में पढ़ाया। कार्तिकेय चन्दोला जहां महर्षि विद्या मंदिर नैनी में रेगुलर 12 में पढ़ता था वहीं उसने सीबीएसई बोर्ड के महर्षि विद्या मंदिर फतेहपुर में अनुक्रमांक 5648426 पर 12 की रेगुलर परीक्षा पास की तो उसी ने यूपी बोर्ड के आदर्श शिक्षा निकेतन, उत्तरी लोकपुर, नैनी से भी 12 की रेगुलर परीक्षा अनुक्रमांक 1117184 से भी पास कर ली। प्रयागराज शहर में ही सीबीएसई बोर्ड का क्षेत्रीय कार्यालय व यूपी बोर्ड का भी मुख्यालय है परन्तु अनेकों शिकायतों के बावजूद दोनों ही बोर्ड अभी तक कोई भी कार्यवाही कर पाने में नाकाम रहे हैं। बहरहाल एकबार फिर शिकायतकर्ता ने लिखित शिकायत भेजकर कार्तिकेय चन्दोला की सभी डिग्रियां निरस्त करते हुए उपरोक्त तीनो विद्यालयों, उनके प्रबंधकों व प्रधानाचार्यों सहित कार्तिकेय चन्दोला के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करके विधिक कार्यवाही की मांग की है। फिलहाल देखना दिलचस्प होगा ही अजगर गति से क्रियाशील दोनों ही बोर्ड इस प्रकरण में कोई कार्यवाही करेंगे या फिर विगत दस वर्षों की भांति आगे भी मूकदर्शक बने रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here