शोहरतगढ़ के शिवपति इण्टर कालेज में भव्य रूप से मनाया जाएगा 1995 बैच के छात्रों द्वारा रजत जयंती समारोह, 25 दिसम्बर से शुरु होगा 3 दिवसीय कार्यक्रम

0
291

● जिलाधिकारी दीपक मीणा सहित पुलिस अधीक्षक राम अभिलाष त्रिपाठी, जिला विद्यालय निरीक्षक की भी रहेगी उपस्थिति, कोविड-19 के निर्देशों के अनुपालन में जुटे आयोजक

● कार्यक्रम को लेकर तैयारी जोरों पर, लाइव प्रसारण की भी रहेगी व्यवस्था

पर्दाफाश न्यूज़ टीम
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

स्थानीय शिवपति इंटर कॉलेज से सत्र 1995 में इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण किए हुए सभी विद्यार्थियों द्वारा 25 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में 25वीं वर्षगाँठ अर्थात “रजत जयंती समारोह” का भव्य व 3 दिवसीय ऐतिहासिक आयोजन आगामी 25, 26 व 27 दिसम्बर को किया जा रहा है।

प्रेस कान्फ्रेंस के माध्यम से कार्यक्रम की जानकारी देते हुए 1995 बैच के छात्र रहे कथावाचक पंडित धीरेन्द्र वशिष्ठ ने बताया कि कार्यक्रम के मार्गदर्शक प्रधानाचार्य डॉ नलिनीकांत मणि त्रिपाठी जी है एवं कार्यक्रम के आयोजक के रूप में 1995 बैच के शिक्षा प्राप्त सभी छात्र होंगे व कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिलाधिकारी दीपक मीणा जी होंगे।

साथ ही उन्होंने बताया कि मुख्य रूप से अनिल पाठक, सत्येन्द्र कुमार गुप्त, महेश त्रिपाठी, मनीष श्रीवास्तव, आलोक प्रताप सिंह, मधुर श्याम मिश्र, राजेश शुक्ल, अष्टभुजा वर्मा, कमलेश्वर मिश्र, ओमप्रकाश कन्नौजिया, दुर्गा प्रसाद सिंघानिया, आशुतोष यादव, अंकित चंद्रा, सुनील राय, संतोष पाण्डेय, लवकुश मिश्र, लवकुश सिंह यादव, बीरेंद्र मणि त्रिपाठी, अखिलेश जायसवाल, नित्यानन्द वर्मा, मुकेश सिंह, घनश्याम प्रसाद, अशोक सिंह, अतुल कुमार पाण्डेय, पवन श्रीवास्तव की सक्रिय भूमिका है।

इसके साथ ही बताया कि ऐतिहासिक आयोजन में प्रथम दिवस को प्रातः काल 11 बजे दीपप्रज्वलन के उपरान्त विद्यालय के छात्रों द्वारा गणेश वंदना, सरस्वती वंदना, स्वागत गीत के पश्चात गुरुजनों का उद्बोधन होगा एवं 1995 बैच के छात्र अपना स्व-परिचय देंगे एवं सांयकालीन भजन संध्या का आयोजन होगा। द्वितीय दिवस विशिष्ट अतिथि पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर राम अभिलाष त्रिपाठी, जिला विद्यालय निरीक्षक, उपजिलाधिकारी शोहरतगढ़ एवं अनेक समाजसेवकों की गरिमामयी उपस्थिति में गजल संध्या का भी आयोजन निर्धारित किया गया है।

इस दौरान शिवपति इण्टर कालेज के प्रधानाचार्य डॉ नालिनी कांत मणि त्रिपाठी ने बताया कि उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद की स्थापना सत्र 1921 में हुई थी। परिषद के आग्रह पर 100 वर्ष पूरा होने की खुशी में पुराने छात्रों के माध्यम से कार्यक्रम किया जा रहा जो वाकई ऐतिहासिक होगा।