डी०एम०-एस०पी० की अध्यक्षता में शोहरतगढ़ तहसील में आयोजित सम्पूर्ण समाधान दिवस में त्वरित निस्तारण रहा शून्य, आये 62 मामले

0
311

● डीएम दीपक मीणा, एसपी राम अभिलाष त्रिपाठी, ए.सी.एम.ओ. डॉ डी.के. चौधरी, एसडीएम अनिल कुमार, तहसीलदार अरविन्द कुमार, नायब तहसीलदार अवधेश कुमार राय में सुनी फरियादियों की फरियाद

पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

मंगलवार को जिलाधिकारी दीपक मीणा व पुलिस अधीक्षक रामअभिलाष त्रिपाठी की अध्यक्षता में सम्पूर्ण समाधान दिवस सम्पन्न हुआ। तहसील दिवस में जिलाधिकारी दीपक मीणा, पुलिस अधीक्षक राम अभिलाष त्रिपाठी, ए.सी.एम.ओ. डॉ डी.के. चौधरी, उपजिलाधिकारी अनिल कुमार, तहसीलदार अरविन्द कुमार, नायब तहसीलदार अवधेश कुमार राय, प्रभारी अधिकारी के रूप में फरियादियों की फरियाद सुन रहे थे। इस दौरान कुल 62 मामले आये, जिसमें राजस्व के 49, पुलिस के 3, विकास विभाग के 2, विद्दुत के 3, आपूर्ति के 2, नहर विभाग के 3 मामले शामिल है। मौके पर निस्तारण शुन्य रहा।

इस दौरान वर्षों से कई शोहरतगढ़ तहसील के चक्कर लगा रहे फरियादी भी नजर आए, जिनकी फरियाद सुनकर जिलाधिकारी ने अधीनस्थों को फटकार भी लगाई।

केस न 1- ग्राम गड़ाकुल की गाटा संख्या 729 के संदर्भ में जिलाधिकारी से एसडीएम को अबैध कब्जा धारकों के बिरुद्ध एफआईआर दर्ज कराने को कहा, साथ ही एस०डी०एम० अनिल कुमार ने शोहरतगढ इंसपेक्टर राम आशीष यादव को एफआईआर करने हेतु अपने कार्यालय से पत्र द्वारा निर्देशित किये जाने का आदेश देने की बात कही। प्रकरण में शोहरतगढ़ निवासी  मुकेश कुमार पोद्दार ने बताया कि इस प्रकरण में मैं 2 वर्ष से तहसील का चक्कर लगा रहा हूँ।

केस न 2- पीड़ित अभिषेक कुमार गिरी ने गाँव के शिव कुमार यादव पुत्र पिंगल प्रसाद व धीरेन्द्र गिरी पुत्र सुहेल गिरी द्वारा गाँव के गाटा संख्या 182 खलिहान व गाटा संख्या 181 चकरोड पर बाउंड्रीवाल एव पक्की दीवाल खड़ाकर कब्जा कर लेने के संदर्भ में प्रार्थना पत्र दिया। जिस पर डीएम ने तहसीलदार से आख्या मांगी है।

केस न 3- समाजसेवी व जिला पंचायत सदस्य अजय सिंह ने क्षेत्र के धनौरा मुस्तहकम, पड़रिया, ढेबरुआ, बोहली, तुलसियापुर आदि में धान क्रय केंद्र न खुलने को लेकर शिकायत की जिस पर डीएम दीपक मीणा ने धान क्रय केंद्र प्रभारी ए०आर० व डिप्टी आरएमओ से आख्या मांगी साथ ही कहा कि मेरे फेसबुक एकाउंट पर धान क्रय केंद्र सम्बन्धी कंट्रोल न दिए गए है। जानकारी मिलने पर उनकी धान ख़रीदी जाएगी।

केस न 4 –  पीड़ित सन्तराम पुत्र बाबूराम निवासी मदरहना उर्फ दत्तपुर ने अपने भाई रामसुभग द्वारा पीड़ित के जमीन में शौचालय निर्माण न करने संबंधी प्रार्थना पत्र व मदरहना उर्फ दत्तपुर के टोला बसंतपुर के गाटा संख्या 39 पर पत्थर नसब करने के सम्बन्ध में शिकायत की उन्होंने कहा कि 20 साल से कचहरी के चक्कर लगा रहा हूं और मुझे कब्जा नही मिला है।

केस न 5 – जोगिया ब्लॉक के ग्राम प्रधान जोगीबारी ने दबंगों द्वारा ग्राम समाज की भूमि पर सामुदायिक शौचालय निर्माण न करने सम्बन्धी शिकायत की है।

केस न 6- पीड़ित कृष्ण किशोर पुत्र शत्रुघ्न निवासी महली ने शिकायत किया कि वसीयत के आधार पर चकबंदी अधिकारी द्वारा नामांतरण आदेश दिनांक 11.02.91 पारित है। संबंधित अभिलेख में दर्ज हुआ लेकिन भूलवश गाटा संख्या 182 पर दर्ज नहीं हो सका और खातेदार धनराजी की मृत्यु के बाद गलत व विधि विरुद्ध तरीके से शांति देवी पत्नी जोखन को वरासत कर दिया गया, और शांति देवी ने वसीयत विपक्षी राम किशोर उपरोक्त को कर दिया। कुल मिलाकर उन्होंने  विवादित गाटा संख्या 182/0.6240 स्थिति ग्राम महली  को हस्तांतरित करने एवं मुआवजा का भुगतान करने के सम्बन्ध में प्रार्थना पत्र दी है। उन्होंने यह भी कहा कि 10 सालों से मैं तहसील के चक्कर लगा रहा हूँ।

केस न 7- मदरहना जनूबी निवासी राघवेंद्र द्विवेदी ने मतदाता सूची पुनरीक्षण कार्य न होने के सम्बंध में शिकायत किया, साथ ही कहा कि पंचायत चुनाव के परिपेक्ष में सभी पंचायतों में बीएलओ की तैनाती हुई है परंतु ग्राम पंचायत मदरहना जनूबी में पुनरीक्षण कार्य नही हुआ है, जिससे मतदाता प्रभावित होंगे।

इस दौरान अपर जिलासूचना अधिकारी विमलेश कुमार, एसडीओ आशुतोष अग्रहरि, चिकित्साधिकारी डॉ पी के वर्मा, अधिशाषी अधिकारी बढ़नी राजन गुप्ता, अधिशाषी अधिकारी शोहरतगढ़ शिवकुमार, शोहरतगढ़ इंस्पेक्टर राम अशीष यादव, ढेबरुआ इंस्पेक्टर तहसीलदार सिंह, चिल्हिया एसो सभासंकर यादव सहित क्षेत्रीय थाना प्रभारी, पूर्ति निरीक्षक संजीत कुमार, पूर्ति निरीक्षक रामसेवक यादव, राजस्व निरीक्षक अंकित अग्रवाल, मिठाई लाल प्रजापति, लेखपाल रामकुमार तिवारी, सुनील सिंह, सुनील श्रीवास्तव, दिवाकर चौधरी, सुरेन्द्र यादव, रामजतन, राम सरोज, टीडी सिंह, कंप्यूटर ऑपरेटर असलम अली, रमेश कुमार आदि मौजूद रहे।