एस.एस.बी. धनौरा के जवानों ने स्वच्छता को लेकर ग्रामीणों में फैलाई जागरूकता, प्रा. वि. खम्हरिया में नागरिक गतिविधि कार्यक्रम आयोजित कर बाटे निःशुल्क मास्क, सेनेटाइजर, पौध व साबुन

0
39

राकेश कुमार राज / पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

इंडोनेपाल बॉर्डर पर जाँच एजेंसी के रूप में सक्रिय रूप से कार्य कर रहे एस०एस०बी० के जवान केवल सुरक्षा की जिम्मेदारी नही लेती बल्कि कोविड-19 जैसी महामारी के बीच निःशुल्क खाद्यान्न का बितरण के साथ स्वास्थ्य सुरक्षा व स्वच्छता के प्रति जागरूकता का अभियान भी चलाते है। जागरूकता कार्यक्रम को लेकर बुद्धवार को समय 10:00 बजे 43 वाहिनी सशस्त्र सीमा बल की सीमा चौकी धनौरा के कार्यक्षेत्र में एस०एस०बी० धनौरा के जवानों ने प्राथमिक विद्यालय खम्हरिया के स्कूल के प्रांगण में नागरिक गतिविधि कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें क्षेत्र के झरुआ, कम्हरिया, भेलैजी आदि के 50 से अधिक ग्रामीणों में साबुन, हैंड सेनेटाइजर, मास्क, वृक्षारोपण हेतु पौध का बितरण किया गया साथ ही ग्रामीणों के लिए नास्ते का भी प्रबंध किया। विदित हो कि सोसल डिस्टनसिंग को फॉलो करते हुए कार्यक्रम का आयोजन किया गया। वस्तुओं के बितरण के लिए गोला बनाकर ग्रामीणों में कोविड-19 से लड़ने के लिए आवश्यक वस्तुओं का बितरण किया गया था।

इस दौरान एसएसबी उप निरीक्षक हरिलाल कहा कि वर्तमान समय मे पूरा देश व पूरा विश्व कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहा है कोविड-19 जैसी संक्रमण से बचाव के लिए खाना खाने से पूर्व हाथ को अच्छी तरह से धोना, घर से बाहर निकलने पर मास्क का प्रयोग करना, जहाँ हाथ धुलने की व्यवस्था न हो वहां सेनेटाइजर का इस्तेमाल करना बहुत ही जरूरी है। उन्होंने पर्यावरण बचाव हेतु पौध रोपण करने की बात कही व उन्हें पौधे भी उपलब्ध कराये।

ग्राम प्रधान मल्हू यादव ने कहा की कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को ध्यान में रखते हुए एसएसबी जवानों द्वारा सीमावर्ती क्षेत्र के गरीब एवं जरुरतमंद लोगों को जागरूक करने के लिए निःशुल्क मास्क, हैंड सेनेटाइजर, साबुन एवं फलदार पौधे निःशुल्क वितरित किया जो प्रसंसनीय है।

इस दौरान एसएसबी के मुख्य आरक्षी नीलेश पाटिल, मुख्य आरक्षी रमेश नायक, आरक्षी कृष्ण कुमार जायसवाल, आरक्षी अजय कुमार जेना, अध्यापक पंकज कुमार, समाजसेवी वीरेंद्र कुमार श्रीवास्तव, एनजीओ के हरीश कुमार प्रधान झरुआ मलहू यादव, ग्रा.रो.से. ध्रुपाल, बीना मिश्रा, सेवा संस्था से सिवानी हरीराम, जय जयराम, भगौती, सीताराम, ओमप्रकाश, राममिलन, गंगाराम, लौटू, शाहजहाँ, इन्द्रावती, लालमती, राजश्री, नसीबुन, कान्ति, विमला, तिलकराम, शाहबुल, कुलबुल, रंगीलाल, ज्ञानमती, सुशीला, ब्रिजू, अकबुन्निशा, उषा आदि मौजूद रहे।

43 वाहिनी सशस्त्र सीमा बल के कार्यवाहक कमान्डेंट अमित सिंह ने बताया कि 43 वाहिनी द्वारा सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों के कल्याण हेतु समय समय पर नागरिक गतिविधि कार्यक्रम एवं जागरूकता अभियान जैसे कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है, जिससे बल के धेय वाक्य ” सेवा, सुरक्षा ओर बंधुत्व” को सार्थक बनाया जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here