80 वर्षों की टूटी परमपरा, घनी आबादी वाले रिहायशी क्षेत्र में दो मंदिरों के बीचों बीच क्षेत्रीय पुलिस की मौजूदगी में खुला शराब का ठेका, 12वें दिन भी शराब के ठेके के बिरोध में महिलाओं का धरना प्रदर्शन है जारी

0
39534

समर सिंह राणा की विशेष रिपोर्ट
गाज़ियाबाद

रविवार को भूड़ भारत नगर रेलवे स्टेशन के पास में खुले शराब के ठेके के विरोध में आज 12वें दिन भी महिलाओं द्वारा धरना प्रदर्शन लगातार जारी रहा।

अवगत करा दें कि भूड़ भारत नगर, रेलवे स्टेशन के पास थाना विजय नगर, क्षेत्र में 05/08/2020 को राम जन्मभूमि पूजन वाले दिन आबकारी विभाग द्वारा बिना किसी जांच के निजी स्वार्थ हेतु नियमों की अनदेखी करके घनी आबादी वाले रिहायशी क्षेत्र में दो मंदिरों के बीचों बीच क्षेत्रीय पुलिस की मौजूदगी में शराब का ठेका खोल दिया गया जिसका क्षेतवासियों को पता लगते ही विरोध प्रारम्भ हो गया। किन्तु पुलिस द्वारा शराब के ठेके को संरक्षण के चलते मुहल्ला वासियों की कुछ भी सुनवाई नहीं हुई। जिससे क्षेत्रीय लोगों में शासन व प्रशासन के खिलाफ काफी रोष है।

गौर करने वाली बात यह है कि जहाँ यह ठेका खोला गया है वहाँ आसपास हजारों की संख्या में लोग अपने परिवार सहित कई वर्षों से रह रहे हैं और पिछले 80 वर्षों में आज तक कभी कोई शराब का ठेका यहाँ नहीं खोला गया है। यहाँ सभी धर्म सम्प्रदाय के लोग निवास करते हैं।

शराब के ठेके से कुछ कदम की दूरी पर सनातन धर्म मंदिर व शनि देव मंदिर मौजूद हैं वहीं सामने की तरफ गुरुद्वारा साहिब व उसी मार्ग पर प्राचीन मस्जिद है व पीछे की तरफ कुछ कदम पर आर्य समाज मंदिर व कन्या पाठशाला मौजूद हैं जिसमें कई छात्राओं को ठेके के सामने से होकर जाना पड़ता हैं जिससे कभी भी कोई दुर्घटना हो सकती है।

धरने पर बैठी महिलाओं का कहना है कि कालोनी में कोई पार्क न होने के कारण वे सुबह शाम गली मोहल्ले में टहलने जाती हैं किंतु शराब का ठेका खुलने से मनचलों का आवागमन मुहल्ले में बढ़ गया है जिससे क्षेत्र की महिलाओं का घर से बाहर निकलना दूभर हो गया है। उधर शराब का ठेकेदार अपने आप को शहर के विधायक व मंत्री श्री अतुल गर्ग का रिश्तेदार बताकर प्रदर्शन करने वाली महिलाओं को झूठे मुकदमे में जेल भिजवाने की धमकी दे रहा है जिस कारण आज महिलाओं ने मंत्री अतुल गर्ग व शराब के ठेकेदारों के विरोध में नारे भी लगाए।

महिलाओं का कहना है कि प्रशासन द्वारा जब तक यह ठेका नहीं हटवाया जाता उनका धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। धरने प्रदर्शन के दौरान श्रीमती द्रोपदी, संध्या, रोज़ी, संजू रानी,शारदा देवी, पूनम व रेनू आदि कई महिलाएं मौजूद थी।