महान स्वतंत्रता सेनानी पंo रामप्रसाद बिस्मिल के जयंती पर उनके चित्र पर माल्यार्पण, एबीवीपी के पूर्व प्रदेश सहमंत्री एवं पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष शिवशक्ति ने पंडित रामप्रसाद बिस्मिल जी के जीवन पर डाला प्रकाश, BJP नेता योगेन्द्र जायसवाल भी रहे मौजूद

0
374

पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

गुरुवार को शोहरतगढ में महान स्वतंत्रता सेनानी पंo रामप्रसाद बिस्मिल के जयंती पर उनके चित्र पर माल्यार्पण करके उन्हें याद किया। इस दौरान एबीवीपी के पूर्व प्रदेश सहमंत्री एवं पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष शिवशक्ति ने पंडित रामप्रसाद बिस्मिल जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि 11 जून 1897 को माँ भारती की गोद मे एक ऐसे पुत्र का जन्म हुआ। जिसने भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति के लिये क्रांति के नए युग का सूत्रपात किया।

“सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है,
देखना है ज़ोर कितना बाजू-ए-कातिल में है”

जैसे उत्प्रेरक उद्घोष के वाहक, स्वदेश प्रेमी, वीर स्वतंत्रता सेनानी, काकोरी कांड के नायक अमर शहीद राम प्रसाद बिस्मिल की जयंती पर सब देशवासियों को शुभकामनाएं। भारत की पीढियां आपकी सदैव कृतघ्न रहेंगी। ऐसे महान सपूतों ने जब अपनी जवानी को देश की बलिवेदी पर बलिदान किया, तब भारत को स्वतंत्रता मिली है ।

कमाल है, कोई गाना गा कर कह रहा है, हमको बिना खड्ग और ढाल के ही आज़ादी मिल गई। शायद इस गाने जो सुनकर ही वो डफ़ली गैंग भी आज़ादी-आज़ादी चिल्ला रहे है। वामियो तुम क्या जानो, स्वतंत्रता के लिये बलिदान क्या होता है। तुमने तो निसहाय लोगो का रक्त पिया है। खैर अब ना तुम रहे, ना रक्तरंजित तुम्हारी सड़ी गली ….। यह भारत है, अपने सपूतों के बलिदान के दम पर खड़ा है। तेरा वैभव अमर रहे ,माँ हम दिन चार रहे न रहे।

इस दौरान मुख्य रूप से संत सुरक्षा मिशन के प्रदेश उपाध्यक्ष, युवा नेता विरेन्द्र मोदनवाल, समाज सेवी विष्णु प्रताप सिंह, दुर्गेश मिश्रा, दुर्गेश सहानी आदि लोग मौजूद थे।