आखिर किसके सह पर शोहरतगढ़ तहसील क्षेत्र में धड़ल्ले से चल रही जेसीबी? स्क्रीनिंग सेन्टर पर स्क्रीनिंग करा रहे तहसीलदार राजेश अग्रवाल द्वारा रोकने पर जे.सी.बी. मालिक ने किया असंसदीय भाषा का प्रयोग

0
266

पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

शोहरतगढ़ तहसील मुख्यालय पर स्क्रीनिंग सेंटर बनाया गया है जहां 30000 से अधिक लोगों का स्क्रीनिंग कर कर से अधिक लोगों का स्क्रीनिंग कर कर अधिक लोगों का स्क्रीनिंग कर कर उन्हें होम क्वॉरेंटाइन के नियमों को बताकर होम क्वॉरेंटाइन कर दिया जा रहा है। इसके साथ ही तहसील प्रशासन ने बताया कि अभी तक तहसील प्रशासन द्वारा 18,000 से अधिक लोगों में रोस्टर बनाकर खाद्यान्न का वितरण भी किया जा चुका है जिस क्रम में सोमवार को भी तहसीलदार राजेश कुमार अग्रवाल रात्रि में मुंबई से आए लोगों का सुबह स्क्रीनिंग सेन्टर पहुँचकर स्क्रीनिंग करा रहे थे।

जानकारी के मुताबिक वे लोग रात्रि में 10:00 बजे के आसपास ही आ गए अधिक रात होने के कारण उनकी जांच नहीं हो पाई परिणाम स्वरुप वह वही विश्राम किए वही विश्राम किए विश्राम किए और सुबह 4:00 बजे ही तहसीलदार राजेश अग्रवाल को सूचना मिली थी मुंबई से बस भरकर काफी लोग आए लोग आए काफी लोग आए हैं फोन की सूचना पर तहसीलदार राजेश कुमार अग्रवाल जब शोहरतगढ़ के सेठ रामकुमार खेतान बालिका इंटर कॉलेज में बनाए गए स्क्रीनिंग सेंटर में पहुंचे और प्रवासी मजदूरों/कामगारों को पानी व बिस्किट दिया गया। स्क्रीन सेंटर के सामने महज कुछ दूरी पर जेसीबी मालिक शकील नाम का व्यक्ति जेसीबी से ट्राली भर-भर कर मिट्टी मिट्टी कर मिट्टी मिट्टी खनन करके प्लाटिंग में मिट्टी जमा करने का काम कर रहा था।

सोमवार को तहसील मुख्यालय से सटे कुछ ही दूरी पर चल रही जेसीबी के मालिक को जब तहसीलदार राजेश कुमार अग्रवाल कि अमीन द्वारा जेसीबी मालिक को बुलाया गया तो उस पर आरोप यह है कि वह तहसील प्रशासन जो कोरोना संकटकाल में जी जान जान से काम कर रहे हैं उनके साथ अमर्यादित रूप से से भाषा का प्रयोग करते हुए उनसे असंसदीय भाषा में बात की गई जो तहसील प्रशासन के साथ-साथ मौके पर स्क्रीनिंग करा रहे लोगों को भी अच्छी नहीं लगी।

उस पर आरोप यह भी है कि जब तहसील प्रशासन ने उससे मिट्टी भरने संबंधी जानकारी चाही तो उसने तहसीलदार से आईडी कार्ड व परिचय पूछ बैठा। और किसी नेता से बात करने की बात कहने लगा, विश्व तहसीलदार राजेश कुमार अग्रवाल ने कहा कि आप मिट्टी किसके आदेश पर खनन रहे हैं, यह जानकारी दें जो मौके पर जेसीबी मालिक नहीं दिखा सका।

बहरहाल संदिग्धता के आधार पर जेसीबी मालिक को पूछताछ के लिए थाने भेज दिया गया। सूत्रों की माने तो पूरे घटना की जानकारी विभाग द्वारा उच्च स्तरीय अधिकारियों अधिकारियों स्तरीय अधिकारियों उच्च स्तरीय अधिकारियों अधिकारियों को दी गई है जिस पर अधिकारियों ने कार्रवाई करने का भरोसा भी दिया है

अब सवाल यह भी है कि क्षेत्र में मिट्टी खनन किसके सह पर किया जा रहा है यदि खनन सही है तो संबंधित ठेकेदार या जेसीबी मालिक द्वारा प्रपत्र क्यों नहीं दिखाया जा रहा है? जैसे सवालों को जन्म देते है। इस दौरान स्वास्थ्य टीम में डॉ पंकज कुमार शोहरतगढ़, सहित तहसील प्रशासन के लोग मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here