तीन मई के बाद भी जारी रह सकता हैं लॉकडाउन, ग्रीन जोन के जनपदों में मिल सकती हैं कुछ छूट, पीएम मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ घंटों किया मंथन

0
203

निजामुद्दीन सिद्दीकी की रिपोर्ट
नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना वायरस संक्रमण की देश में मौजूदा स्थिति और इस कारण 25 मार्च से लागू देशव्यापी बंद (लॉकडाउन) सहित अन्य विषयों पर सोमवार को विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक कर चर्चा की। बैठक में देश को लॉकडाउन से चरणबद्ध तरीके से बाहर लाने के उपायों पर विचार विमर्श हुआ।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में कोविड-19 हॉटपोस्ट में लॉकडाउन 3 मई के बाद भी जारी रहने का संकेत दिया है। साथ ही साथ मेघालय के सीएम कोनराड संगमा ने पीएम मोदी से कहा है कि उनके प्रदेश में जो ग्रीन जोन जिले हैं उनमें छूट दी जाए और कोरोना से प्रभावित जिलों में तीन मई के बाद भी लॉकडाउन जारी रखा जाए। खबरों के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य के मुख्यमंत्रियों से कहा कि देश के कुछ हिस्सों में लॉकडाउन जारी रह सकता है, जो कोरोना संक्रमण से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। बैठक में नौ में से पांच मुख्यमंत्रियों ने कहा कि लॉकडाउन समाप्त होना चाहिए, जबकि बाकी कोरोना पर काबू पाने के लिए लॉकडाउन का विस्तार करने के पक्ष में हैं।

इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन सहित विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने हिस्सा लिया। बैठक में हिस्सा ले रहे तमाम राज्यों के मुख्यमंत्री मास्क लगाए नजर आये तो वहीं, प्रधानमंत्री मोदी ने हरे रंग के बॉर्डर वाले सफेद गमछे से मुंह को ढंका हुआ था। सरकार के सूत्रों ने रविवार को संकेत दिए थे कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्रियों के बीच महामारी से निपटने के तरीकों पर चर्चा के अलावा, लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने के उपायों पर भी विचार विमर्श हो सकता है।

उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिये देश में 25 अप्रैल से 14 मई तक 21 दिन और 13 अप्रैल से तीन मई तक 19 दिन का लॉकडाउन घोषित किया जा चुका है। देश में कोविड-19 से मरने वालों की संख्या सोमवार को 872 हो गई है  और संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 27,892 पर पहुंच गई। 20,835 लोग अब भी संक्रमण की चपेट में हैं जबकि 6,184 लोग ठीक हो चुके हैं और एक व्यक्ति विदेश चला गया है। कुल मामलों में 111 विदेशी नागरिक भी शामिल हैं। रविवार शाम से कुल 46 लोगों की मौत हुई है जिनमें से 19 की मौत महाराष्ट्र में, 18 गुजरात में, चार मध्य प्रदेश में, दो पश्चिम बंगाल में और एक-एक व्यक्ति की मौत पंजाब, कर्नाटक और तमिलनाडु में हुई है। मौत के कुल 872 मामलों में से सबसे अधिक 342 मौतें महाराष्ट्र में हुई हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here