सांसद प्रतिनिधि सूर्यप्रकाश पाण्डेय के शोहरतगढ़ स्थिति आवास पर मनाई गई भगवान परशुराम जी की जयंती, उनके जीवन चरित्र पर डाला गया प्रकाश

0
238

पर्दाफाश न्यूज़ टीम
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

शोहरतगढ़ अंतर्गत शनिवार को सांसद प्रतिनिधि सूर्यप्रकाश पाण्डेय के आवास पर भगवान परशुराम जी की जयंती मनाई गई। इस दौरान सांसद प्रतिनिधि सूर्यप्रकाश पाण्डेय ने भगवान परशुराम जी जीवन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भगवान परशुराम जी का पौराणिक कथाओं और धर्म में एक महत्त्वपूर्ण स्थान पर हैं। भगवान परशुराम (चिरंजीव) को विष्णु जी का छठा अवतार माना जाता है। परशुराम जी का सम्बन्ध त्रेता युग से है। परशुराम शब्द का अर्थ है फरसा लिए हुए भगवान राम। जब परशुराम जी को भगवान शिव से परशु प्राप्त होने के बाद पृथ्वीलोक पर किसी भी व्यक्ति को उन्हें हराना असंभव था।

इस दौरान एबीवीपी के पूर्व प्रदेश सहमंत्री पंडित शिवशक्ति शर्मा ने कहा कि भगवान परशुराम जी, भगवान शिव के बहुत बड़े भक्त थे और उन्हें शिव जी से एक फरसा (कुल्हाड़ी रुपी हथियार) वरदान के रूप में प्राप्त था। यही कारण है, की उनका नाम परशुराम है। शिवजी ने उन्हें युद्ध कौशल भी सिखाया। वे ऋषि जमदग्नी व रेणुका देवी के पुत्र थे। जब वे छोटे थे तभी से वे एक गहन शिक्षार्थी थे और वह सदैव अपने पिता ऋषि जमदग्नी की आज्ञा मानते थे। परशुराम जी सबसे पहले योद्धा ब्राह्मण था यही कारण है की उन्हें ब्रह्मक्षत्रिया (दोनों ब्राह्मण और क्षत्रिय का अर्थ योद्धा कहा जाता है) उनकी माता रेणुका देवी जी क्षत्रिय थीं। इस दौरान समाज सेवी नितेश मित्तल, दुर्गेश वर्मा व शुभम् गौड़ उपस्थित रहें ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here