कोरोना वायरस (COVID-19) लॉक डाउन के बीच भारत व नेपाल में फंसे लोगों को उच्च अधिकारियों के निर्देश पर क्वॉरेंटाइन के बाद प्रशासन ने भेजवाया एक-दूसरे देश, अंतरराष्ट्रीय सीमा के बढ़नी बॉर्डर से भारत मूल के 36, नेपाल मूल के 35 लोग आये-गये अपने देश

0
351

मनोज शुक्ला की रिपोर्ट
बढ़नी, सिद्धार्थनगर

शनिवार को कोरोना वायरस (COVID-19), लॉक डाउन के बीच भारत व नेपाल में फंसे लोगों को उच्च अधिकारियों जिलाधिकारी दीपक मीणा व पुलिस अधीक्षक विजय ढुल के निर्देश पर उपजिलाधिकारी अनिल कुमार व पुलिस क्षेत्राधिकारी की अगुवाई में स्थानीय स्तर पर क्वॉरेंटाइन के बाद अंतरराष्ट्रीय सीमा के बढ़नी बॉर्डर से भारत मूल के 35 नेपाल मूल के 35 लोग गये अपने अपने देश चले गए।

उक्त की जानकारी देते हुए तहसीलदार राजेश कुमार अग्रवाल ने बताया कि लॉक डाउन के बीच नेपाल के लोगों को 14 दिनों तक क्वॉरेंटाइन किया गया था। उच्च अधिकारियों के निर्देश पर भारत मूल के लोग भारत मे व नेपाल मूल के लोग नेपाल देश चले गए।

उपजिलाधिकारी अनिल कुमार ने बताया कि नेपाल से जो 36 लोग आये उनमें से 29 लोग बलरामपुर जनपद के तुलसीपुर व 7 लोग सिद्धार्थनगर जनपद के बांसी तहसील क्षेत्र के चेतिया के निवासी है। जिन्हें प्रशासन द्वारा सकुशल उनके घर पहुचाया जा रहा है।

नेपाल मूल के भारत सीमा में क्वॉरेंटाइन रहें लोगों ने बताया कि क्वॉरेंटाइन सेंटर में तहसील प्रशासन द्वारा गुणवत्ता परक भोजन की व्यवस्था कराई गई, साफ-सफाई पर ध्यान दिया गया। साथ ही साथ उन्हें कोरोनावायरस से बचाव व योग की शिक्षा देकर जागरूक किया गया।

इस दौरान पुलिस क्षेत्राधिकारी सुनील कुमार सिंह, चौकी प्रभारी बढ़नी महेश सिंह, एस०एस०बी० 50 वाहिनी सी कंपनी बढ़नी के सहायक कमांडेंट सुमित हरित, इंस्पेक्टर महेंद्र कुमार, सहायक उपनिरीक्षक दर्शन लाल, सिपाही सुभाष चंद्र, सिपाही हरिशंकर, अधिषासी अधिकारी राजन गुप्ता, बढ़नी चेअरमैन निसार बागी, भाजपा नेता नगर संयोजक अशोक अग्रहरि, भाजपा नेता राजू मौर्य, सहित राजस्व निरीक्षक अंकित अग्रवाल, लेखपाल सुनील श्रीवास्तव, क्षेत्रीय लेखपाल आदि मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here