स्वास्थ्य सुविधाओं को लेकर बढ़नी पी.एच.सी को लगा पलीता, साधारण बीमारी के लिए भी नहीं है दवा, डॉक्टर लिखते हैँ बाहर की दवा, स्वास्थ्य मंत्री के जिले का ये है ये हाल

0
306

निजामुद्दीन सिद्दीकी की रिपोर्ट
बढ़नी, सिद्धार्थनगर

कोरोना वायरस के बढ़ते आतंक से जहाँ पूरी दुनिया मे हाहाकार मचा हुआ है, वहीँ हर देश अपने अपने देश के नागरिकों के सुरक्षा के लिए कड़े कदम उठा रहे हैँ, यही नहीं अपने देश के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कोरोना वायरस के बढ़ते महामारी को देख कर देश मे लॉकडाउन घोषित कर दिया गया है,वहीँ देश के सभी राज्यों के आला अधिकारी अपने अपने जनपद मे नियमों का शक्ति से पालन करवा रहे हैँ, जहाँ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना वायरस के रोक थाम व बचाव के लिए प्रदेश के स्वास्थ्य विभाग को निर्देश दिया है की अगर कोई सरकारी अस्पताल पर किसी भी बीमारी का संदिग्ध आता है तो तत्काल उसका उपचार किया जाये जिससे इस महामारी मे उसे बार बार कही भटकना ना पड़े, मुख्यमंत्री ने तो आदेश दे दिया है लेकिन आईये देखते हैँ की क्या अपने ही जनपद सिद्धार्थनगर मे इसका पालन हो रहा है? जी हा यह घटना आज शनिवार सुबह लगभग 11 बजे की है बढ़नी नगर का एक युवक दवा लेने के लिए बढ़नी के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर गया, तो वहां उसने बढ़नी पी.एच.सी के डॉक्टर से कहा की सर मुझे रात मे बहुत खासी आती है और छींक भी आता है व थोड़े देर बाद नाक से पानी बहने लगता है और आंखों और चेहरे पर सूजन हो जाता है. फिर क्या था युवक जैसे जैसे बोल रहा था डॉक्टर साहब दवाओ का लिस्ट बढ़ाते जा रहे थे, फिर युवक चुप हो गया, डॉक्टर साहब ने कहा और कोई दिक्कत है आपको? तो युवक ने कहा नहीं, फिर डॉक्टर साहब ने युवक को पर्ची दिया और कहा की बाहर से दवा ले लो, लेकिन जब युवक पी.एच.सी.के बाहर मेडिकल पर दवा लेने गया तो वहां दवा की कीमत बहुत ज्यादा जिससे युवक ने नहीं लिया क्योंकि युवक के पास अधिक रूपये नहीं थे, फिर युवक ने बढ़नी पी.एच.सी. के डॉक्टर से जाकर कहा की सर कुछ दवा अंदर से नहीं मिल पायेगा तो डॉक्टर साहब ने कहा की यहाँ कोई दवा ववा नहीं है जो लेना है बाहर से ही लेना होगा।
इस महामारी मे एक बड़ा सवाल यह है की अगर बढ़नी पी.एच.सी. मे साधारण सर्दी,जुखाम,एलेर्जी की दवा जब नहीं तो यहाँ और मरीजों का क्या होता होगा,आखिर मे इसमे जिम्मेदार कौन है जिला स्वास्थ्य विभाग मुख्य चिकित्साधिकारी या बढ़नी पी.एच.सी के डॉक्टर?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here