शोहरतगढ़ क्षेत्र के निर्माणाधीन डोई पुल के पास 60 वर्षीय दिहाड़ी मजदूर की मौत, हार्टअटैक का बताया जा रहा कारण, दैनिक रोजी-रोटी से चलाता था घर का खर्चा, जाति पाति से ऊपर उठकर मृतक जब्बार दुर्गा पूजा प्रतिमा विसर्जन के दौरान करतब दिखा रहे युवाओं का करते थे उत्साहवर्धन

0
301

पर्दाफाश न्यूज टीम
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

लॉक डाउन के बीच महादेवा नानकार निवासी जब्बार पुत्र सफी मोहम्मद की पुरानी दोई नदी में गुरुवार की सुबह लाश मिली। जानकारी के मुताबिक मृतक जब्बार दिहाड़ी नाई (दाढ़ी बाल बनाने) का काम करता है। लॉक डाउन के कारण उसकी दुकान 21 दिन के लिए बन्द हो गयी। यह भी बताया जाता है कि किसी कार्य से गुरुवार की सुबह 7- 8 बजे के आसपास पुरानी निर्माणाधीन पुल के पास से शोहरतगढ़ जा रहा था। अक्सर लोग निर्माणाधीन पुल के पास 6 इंच के एंगल से लोग शोहरतगढ़ आते जाते थे। बॉडी का संतुलन बिगड़ने के कारण वह गिर गया। हार्टअटैक के कारण उसकी मौत बताई जाती हैं। बताते चले कि लॉक डाउन के कारण इक्का दुक्का लोग ही घर से जरूरत पर निकल रहे है। इसलिए किसी को घटना की जानकारी ही नही मिली। काफी देर बाद शौच के लिए आये ग्रामीणो ने मृतक को निर्माणाधीन पुल के पास मृत पाया। उन लोगो ने घटना की जानकारी घरवालों को दी।

जाति पाति से ऊपर उठकर मृतक जब्बार दुर्गा पूजा प्रतिमा विसर्जन के दौरान करतब दिखा रहे श्रद्धालुओं की अगुवाई भी करते। चाहे कोई तलवार बाजी कर रहा हो, लाठी खेल रहा हो, करतब दिखा रहे लोगो का मनोबल भी ऊंचा करते। जानकार बताते है कि मृतक जब्बार खुनुवा-शोहरतगढ़ बाईपास से शोहरतगढ़ जाता था लेकिन किस कारण से गुरुवार को वह निर्माणधीन पुल से गया किसी को नही मालूम?। जब्बार के कुल 9 संताने है, जिसमें 4 पुत्र हक़ीम (40) शकील (35), भुल्लू (23), नईम (18) व 5 पुत्रियां है जिनकी शादी हो गयी है। पत्नी तलबुन्निशा सहित परिजनों का रोरोकर बुरा हाल है। लोग यह भी बताते है कि दैनिक आय से परिवार का भरण पोषण होता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here