मस्जिदिया में आयोजित श्रीरुद्र महायज्ञ कथा प्रसंग में भगवान शिव-पार्वती विवाह प्रसंग पर भाव विभोर हुए श्रद्धालुओं, कथा प्रसंग में दहेजरूपी डायन पर भी डाला प्रकाश

0
916

पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

श्रीरुद्र महायज्ञ कथा के तीसरे दिन व्यास मंच पर प्रयागराज से आयी श्रीमती समीक्षा पांडेय जी का श्रीमती सत्यधामा जायसवाल ने चन्दन लगा कर स्वागत किया। तीसरे दिन की कथा प्रसंग में भगवान शिव-पार्वती विवाह प्रसंग पर श्रद्धालुओं भाव विभोर हो गए।

व्यास मंच से श्रीमती समीक्षा पांडेय ने कहा कि पुराने युग मे शादी समारोह दहेज से एक दम दूर थे और आज के युग मे दहेज रूपी डायन कितनो बहनो को सशुराल मे जलते, रोते-बिलखते हुए देखा जाता है उस समय बारातियो का सेवा भाव दिखाई देता था। आज के समय में किसी के पास समय ही नही कि, किसी मेहमान से मिले। सरकार ने दहेज को लेकर कानून बनाये है फिर भी दहेज रूपी डायन मुह बाये खडी है। हम सभी समाज के लोगो को जागरूक हो कर दहेज रूपी डायन को खतम करने के बाद ही समाज मे सभी तबके को सुख शान्ति मिल सकती है।

बताते चले कि प्रतिदिन यज्ञाचार्य पंडित श्री राधेय जी द्वारा पूजा अर्चन कराया जा रहा है तथा राम कथा का संचालन ओंकार दास त्यागी द्वारा किया जा रहा है। इस दौरान अयोजक श्रवण कुमार जायसवाल, प्रहलाद गुप्ता, लालबहादुर जायसवाल, सुधीर जायसवाल, अशोक कुमार, हरभजन, प्रधान शुकलावती देवी शेषमती, सुनीत सबिता, फूलमती, आदि श्रद्धालु उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here