जमीनी विवाद पर तहसीलदार शोहरतगढ़ राजेश अग्रवाल ने राजस्व टीम के साथ विवादित स्थल का किया मुआयना, उभय पक्षों के अभिलेखों की की जांच, अग्रिम आदेश तक निर्माण करने पर लगाई रोक

0
299

श्रवण कुमार पटवा की रिपोर्ट
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

शोहरतगढ़ तहसील क्षेत्र के परसा मुतालिक में जमीन को लेकर काफी दिनों से विवाद बना हुआ था, जिसमे थानाध्यक्ष चिल्हिया द्वारा शांतिभंग की आशंका बताई जा रही थी, थानाध्यक्ष चिल्हिया के अनुरोध पर तहसीलदार शोहरतगढ़ राजेश अग्रवाल बीते मंगलवार को अपनी राजस्व टीम व पुलिस बल के साथ विवादित स्थल पर पहुँचे। वहाँ उन्होंने उभय पक्षों के अभिलेखों का निरीक्षण, स्थल का निरीक्षण किया प्रथम पक्ष आत्माराम ने बताया कि उनके पक्ष में उनके ससुर नंदलाल द्वारा वर्ष 2014 में ही रजिस्टर्ड बैनामा किया गया है।

द्वितीय पक्ष इसमाती देवी पत्नी चंद्रशेखर ने बताया कि नंदलाल द्वारा उनकी सेवा से खुश होकर उनको यह जमीन उपहार स्वरूप दे दी गयी थी लेकिन तहसीलदार शोहरतगढ़ द्वारा अभिलेख मांगे जाने पर दिखाया नही गया था, इसमाती देवी द्वारा दो दिन का समय लिया गया। हालांकि वहाँ पर उपस्थित ग्रामीणों ने एक स्वर से बताया कि विपक्षी किसमती द्वारा एक माह पूर्व जबरजस्ती बल पूर्वक कब्जा कर लिया गया है। तहसीलदार शोहरतगढ़ ने थानाध्यक्ष चिल्हिया को निर्देशित किया कि कोई भी पक्ष किसी तरह की निर्माण कार्य नही करेगा जब तक विपक्षी किसमती द्वारा विवादित भूमि के सम्बंध में कोई अभिलेख उपलब्ध नही करा दिया जाता है। मौके पर कोई भी पक्ष शांतिभंग की कोशिश नही करेगा, तहसीलदार के इस निर्णय की लोगों ने प्रशंसा की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here