शोहरतगढ़: मूर्ति विसर्जन में रात्रि से ही डटे रहे तहसील के जिम्मेदार अधिकारी, डी.एम. एस.पी. ने भी भ्रमण कर सुरक्षा व्यवस्था का लिया जायजा

0
930

श्रवण कुमार पटवा की रिपोर्ट
शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर

बताते चलें कि बुधवार की रात्रि में प्रतिमाओं का डोला उठकर गुरुवार की सुबह शोहरतगढ़, गड़ाकुल, नीबी दोहनी मेढवा, छतहरी, अगया गाँव की प्रतिमायें विसर्जित की जाएगी। यहाँ अन्य प्रतिमाओ के बिसर्जन के एक दिन बाद प्रतिमाओं का बिसर्जन होता है, जो पूरी रात्रि नगर भ्रमण के बाद सुबह दोई नदी के तट पर बिसर्जन होता हैं।

दुर्गा पूजा महोत्सव एवं विसर्जन समिति अध्यक्ष सुभाष गुप्ता ने बताया कि इस वर्ष कस्बे सहित नीबी दोहनी, गड़ाकुल, मेढवा, अगया, छतहरी में कुल 55 प्रतिमाओं का विधि-विधान से दोई नदी पर विसर्जन होगा। डोले के अखाड़े के आयोजन होता है जिसमे लोग करतब भी दिखाते है। विसर्जन में श्रीरामजानकी मंदिर विजय रथ सबसे आगे और उसके पश्चात क्रमवद्ध सभी प्रतिमाओं की सूची कमेटी द्वारा दी गईं है, जिससे शांति व्यवस्था बनीं रही।

माँ दुर्गा के मूर्तियों के विसर्जन में रात्रि में थाना इंस्पेक्टर अवधेश राज सिंह के साथ उपजिलाधिकारी शोहरतगढ़ अनिल कुमार, तहसीलदार राजेश अग्रवाल सहित तहसील कर्मचारी ड्यूटी पर मुस्तैद दिखे। बताते चले कि कस्बे में जिलाधिकारी दीपक मीणा और पुलिस अधीक्षक विजय ढुल की नजर हमेशा बनी रहती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here