शैक्षणिक सुधार हेतु निजी विद्यालयों को भी मिले सुविधा —सुदामा।

0
373

सूबे में शैक्षणिक सुधार हेतु निजी विद्यालयों को सरकारी सुविधा से करें आच्छादित-चन्द्रमणि पाण्डेय सुदामा

पर्दाफाश न्यूज

बस्ती
सोमवार को सूबे के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश चन्द्र द्विवेदी से वित्त विहीन प्रबंधक शिक्षक स्वाभिमानी मंच के संयोजक चन्द्रमणि पाण्डेय सुदामाजी नेतृत्व में प्रबन्धकों ने मिलकर अधिकारी कर्मचारियों की कार्यशैली व दोषपूर्ण शिक्षा नीति के चलते विद्यालय संचालन में आ रही परेशानियों से अवगत कराते हुए कहा कि यदि सरकार हमें भी सहयोगी अंग मानकर मान्यता भवन व मानदेय तथा हमारे बच्चों को भी देश के भविष्य के तौर पर शैक्षणिक सुविधा व संसाधन मुहैया कराये तो हम दो कदम आगे बढ कर सूबे के शैक्षणिक विकास में सहयोग करेंगें श्री पाण्डेय ने कहा कि एक तरफ तो सरकार हर क्षेत्र में निजीकरण कर रही है दूसरे तरफ शिक्षा की रीढ प्राथमिक शिक्षा के क्षेत्र में आजादी से आज तक किसी निजी विद्यालय को अनुदानित नहीं किया गया सरकार द्वारा प्राथमिक विद्यालयों जमीन बिल्डिंग शिक्षक के साथ साथ भोजन बैग व कपडा देने में प्रति विद्यालय लाखों रूपया व्यय करने के बाद भी उनसे अधिक बच्चों को शिक्षा देने का काम हम कर रहे हैं फिर भी हमारे साथ सौतेला व्यवहार किया जाता है सारी व्यवस्था निजी स्रोत से उपलब्ध कराने के बाद भी मान्यता हेतु मानक के नाम पर सुविधा शुल्क खोजा जाता है व समय समय पर मनमाना प्रत्यावेदन शुल्क बढा दिया जाता है पूर्व माध्यमिक विद्यालय के मान्यता हेतु जो शुल्क 2009में महज 12500 था वो 2014 में 33000 व 2019 में 150000 कर दिया गया फलताः पूर्वांचल के बस्ती में हजारों फाइल वर्षों से लम्बित पडी है सरकार व समाज द्वारा निजी विद्यालयों को लुटेरा भी बताया जाता है जबकि 80%विद्यालयों में प्रतिमाह शुल्क अधिकतम 400है जिसमें से एक घर के कई बच्चों के पढने पर व कुछ बच्चों के पारिवारिक स्थिति को देखते हुए हम शुल्क नहीं लेते व 25 से 30%शुल्क बकाया रह जाता है फलतः प्रति क्लास 40बच्चों पर हमें 8हजार शुल्क प्रतिमाह मिलता है प्रथमिक कक्षाओं की सरकारी पुस्तकें न हमें सरकार मुहैया कराती है न मार्केट में उपलब्ध होता है फलतः प्राइवेट किताब लगाना हमारी मजबूरी है
ऐसे में यदि लम्बित फाइलों के निस्तारण करते हुए मान्यता नीति सुलभ बनाते हुए निजी विद्यालयों को आवश्यक सुविधाएं दी जायं व ऐतिहासिक कदम उठाते हुए निजी प्राथमिक विद्यालयों को अनुदानित किया जाय तो निःशुल्क गुणात्मक शिक्षा के क्षेत्र में सूबे की प्राथमिक शिक्षा निजी विद्यालयों के सहयोग से सुदृढ होगा
शिक्षा मंत्री ने फाइल निस्तारण में शिथिलता को गंभीरता से लेते हुए शीघ्र उचित कार्यवाही शेष पर समीक्षा कर न्यायोचित कार्यवाही का आश्वासन दिया इस दौरान नवनीत पाण्डेय,सुरेश चौधरी,सुनील पाण्डेय, विकास शर्मा,दीपक यादव,दिनेश चौहान, अजय तिवारी, सोनू पाण्डेय सहित दो दर्जन प्रबंधक मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here