ग्रामीण महिलाओं के कार्य के आसन व तनाव पर कार्यशाला में हुई चर्चा

0
527

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज

एटीएआरआई कानपुर द्वारा संयुक्त रूप से संचालित पांच दिवसीय ‘ड्रगरी एसेसमेन्ट पर राष्ट्रीय कार्यशाला कम प्रशिक्षण कार्यक्रम’ के तीसरे दिन आयोजन सचिव प्रो0 रजिया परवेज ने काम के आसन एवं मांसपेशियों में तनाव पर व्याख्यान देते हुए महिला कृषकों की क्षमता वृद्धि को समझाया। उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में काम करने के दौरान महिला श्रमिकों की मादकता और थकान को मापने के लिए उपकरण के बारे में बताया। प्रति कुलपति प्रो0 सर्वजीत हरबर्ट ने प्रतिदिन की दिनचर्या में एर्गोनाॅमिक्स (श्रमदक्षता) शास्त्र के बारे में समझाते हुए कहा कि एर्गोनॉमिक्स के विज्ञान और ग्रामीण महिला श्रमिकों के लिए इसके उपयोग पर जोर दिया और बताया कि किस तरह से हम भारत जैसे अग्रणी कृषि अर्थव्यवस्था में मानव संसाधनों का कुशलता से उपयोग कर सकते हैं। उन्होंने आध्यात्मिकता, गति, लचीलेपन और शक्ति के बीच संबंध बनाकर एक कुशल जीवन शैली के मूल सिद्धांतों पर जोर दिया। कार्यक्रम के दौरान सूचनात्मक व्यावहारिक प्रदर्शन किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here