मुल्क की तरक़्क़ी में ज़िम्मेदारी निभाये मुसलमान- डॉ मोहम्मद अकरम

0
478

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज

मुसलमान मुल्क की तरक़्क़ी के लिए आगे आयें। अपने गरीब हिन्दू भाइयों की भी मदद करें। शिकवा शिकायत करने की बजाए तालीम को कामयाबी की कुंजी बनाएं। सामाजिक जिम्मेदारी को निभाने वाला ही सच्चा मुसलमान है। यह बातें इस्लामिक इंस्टीटूट ऑफ़ लंदन के प्रधानाचार्य व कम्ब्रिज इस्लामिक कालेज के डीन मौलाना डॉo मोहम्मद अकरम ने कही।
करेली स्थित महबूबा पैलेस में रविवार को ” जम्हूरियत में अकलियतों का किरदार ” विषय पर सेमिनार का आयोजन हुआ। जिसमें लंदन से आये मुख्य वक्ता मौलाना मोहम्मद अकरम ने मुसलमानों से अपने इख़लाक़ और क़िरदार को बुलंद करने पर बल दिया। मौलाना ने ग़रीब यतीम कमज़ोर की मदद करने को कहा। फिर चाहे वह किसी धर्म या जाति को हो।
उन्होंने बताया कि अल्लाह ने मुसलमानों को एक ज़िम्मेदारी के साथ दुनिया में उतारा है। ऐसे में बिना भेदभाव के अपने हिन्दू भाई और बहनों की भी मदद करिये। देश के लिए कुर्बानी दें । मुल्क की तरक़्क़ी के लिए आगे आयें। मांगने की बजाए देने वाले बने। सियासी पार्टियों का पिछलग्गू बनने की बजाय अपने व्यवहार से लोगों का दिल जीतें । मुसलमान के नाम पर किसी भी तरह की सियासी पार्टी बनाने को उन्होंने सिरे से खारिज किया।
कुरान पाक के हवाले से मौलाना ने बताया कि इल्म हासिल करना ज़रूरी है , लड़का-लड़की दोनों को अच्छी शिक्षा दें। सच्चा मुसलमान वही है जो अल्लाह के बंदों से भी मोहब्बत करे। फितना फसाद , नफ़रत नहीं मोहब्बत के रास्ते को चुनें , भूखों को खाना खिलाएं ,पड़ोसियों की मदद करें , दावत को आम करिये। मांगने की जगह ज़्यादा से ज़्यादा देने वाला बनें। देश की तरक़्क़ी के लिए आपसी सौहार्द को बनाये रखें। कार्यक्रम के समापन पर मौलाना महबूब मदनी ने देश की तरक़्क़ी और क़ौम के लिए दुआ मांगी। इससे पहले मौलाना मोहम्मद हसीब,मौलाना महमूद करीम नदवी ने भी अपने विचार रखे।
आयोजन अराकीन-ए-मजलिस फिकरे इस्लामी व चायल वेलफेयर सोसाइटी ने किया । इस दौरान मौलाना अहमद मकीन, मौलाना मोहम्मद अमीन, जावेद मोहम्मद, अधिवक्ता काशान सिद्दीकी, मौलाना इरफानुल हक़, डॉक्टर सुहैब मौजूद रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here