शिक्षा विभाग का बड़ा कारनामा- शिकायत में आरोपों की पुष्टि के बावजूद भ्रष्टाचार में संलिप्त अधिकारियों ने आरोपी को अवैध कार्य के लिए खुला छोड़ा

0
714

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
सिद्धार्थनगर/प्रयागराज

सिद्धार्थनगर के शिक्षा अधिकारियों पर यह लोकोक्ति ठीक बैठती है कि जब बाड़ ही खेत को खाये तो रखाये कौन? बता दें कि सिद्धार्थनगर में शिक्षा अधिकारियों के सानिध्य में अवैध विद्यालयों व अमान्य कोचिंग का धंधा अनवरत फल-फूल रहा है जिसका ताजा उदाहरण शोहरतगढ़ का पी0पी0एस0 पब्लिक स्कूल भी है।

जानकारी के अनुसार स्वयं आर0के0 पाण्डेय एडवोकेट हाई कोर्ट इलाहाबाद ने जरिये शिकायत स0 20018419004451 तथा 40018419010232 आईजीआरएस पर दर्ज कराई जिसमे साक्ष्यों सहित आरोप लगाया गया था कि पी0पी0एस0 पब्लिक स्कूल शोहरतगढ़, सिद्धार्थनगर मात्र कक्षा 1 से 8 तक ही बेसिक शिक्षा विभाग से मान्यत प्राप्त है परन्तु इस मानक विहीन विद्यालय में अवैध व अमान्य रूप से 12 तक की कक्षाएं संचालित हैं।

जांच अधिकारी अवधेश नारायण मौर्य, जिला विद्यालय निरीक्षक सिद्धार्थनगर ने अपनी जांच रिपोर्ट पत्रांक/मा0-03/1948/2019-20 दिनांक 9 अगस्त 2019 में स्पष्ट किया है कि उपरोक्त विद्यालय की मान्यता केवल 1 से 8 तक की है परन्तु अवैध तरीके से कोचिंग के नाम पर 9 से 12 तक की कक्षाएं टीन शेड में संचालित हैं। यह न सिर्फ आश्चर्यजनक बल्कि घोर निंदनीय व शर्मनाक है कि भ्रष्टाचार में संलिप्त शिक्षा अधिकारियों ने उपरोक्त आरोपी विद्यालय प्रबंधन के विरुद्ध कोई भी कार्यवाही नही की है व इन अधिकारियों के संरक्षण में उपरोक्त गैर मान्यता प्राप्त अवैध व अमान्य विद्यालय आज भी संचालित है। इस बावत शिकायतकर्ता का कहना है कि वह अब सिद्धार्थनगर जनपद के भ्रष्टाचार में संलिप्त शिक्षा अधिकारियों के विरुध्द विधिक कार्यवाही के लिए उच्च स्तरीय शिकायत करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here