77 वी वर्षगांठ पर अलग अंदाज में समाजसेवी सरदार पतविंदर सिंह

0
359

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज

भारत छोड़ो आंदोलन की 77वीं वर्षगांठ पर समाजसेवी सरदार पतविंदर सिंह टी-शर्ट पर देश के प्रति हमारे कर्तव्य के बारे में क्रांतिकारी स्लोगन लिखकर विभिन्न स्थानों पर पैदल भ्रमण कर कह रहे हैं कि आप लोग अपने दिलों में सद्भावना का दिए जलाएं जिससे आजादी की लड़ाई में दिवंगत शहीदों की आत्मा को शांति मिल सकेl आपको बताते चलें कि समाजसेवी सरदार पतविंदर सिंह ने इससे पहले 1998 में आजादी के स्वर्ण जयंती पर भी राष्ट्रीयता की अलग जगाने के लिए अपने शरीर के खून की बूंदों से टीशर्ट पर क्रांतिकारी स्लोगन लिखकर भ्रमण कर चुके हैंl पतविंदर सिंह ने टी-शर्ट पर एक बने .नेक बने. जियो तो सेवा के लिए .मरो तो देश के लिए. मिलजुल कर रहे हैं एकता का दीप जलाएं .वंदे मातरम जैसे नारे लिखे हैंl
उन्होंने सामाजिक बुराइयों पर अंकुश लगाने के लिए कोशिश नहीं होने पर गहरी चिंता व्यक्त की पतविंदर सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह को कश्मीर को भारतीयता के सूत्र में पिरोकर सात दशकों की मां भारती की आकांक्षा पूरी करने के लिए कोटिश अभिनंदन और बधाईl
समाजसेवी पतविंदर सिंह ने कहा कि सरकार को ऐसे तत्वों को प्रोत्साहन देना होगा जो कश्मीर घाटी के लोगों में भारत के प्रति अच्छी भावनाएं विकसित कर सकें ताकि स्थानीय लोग भारतीय संघ के प्रति लगाव रखते हुए प्रत्येक स्तर पर भारतीय राष्ट्रीय जीवन का हिस्सा बन सकेंl

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here