अंतरी निवासी रफीक ने वसीयत के आधार पर खतौनी में अपना नाम दर्ज करने के जिलाधिकारी को लिखा प्रार्थना पत्र, लेखपाल पर लगाया आरोप

0
245

पर्दाफाश न्यूज टीम
सिद्धार्थनगर

वसीयत है 1981 का फिर भी शिकायतकर्ता का नाम वसीयत के आधार पर दर्ज नहीं हुआ अन्ततः थकहारकर पीड़ित ने जिलाधिकारी से गुहार लगाई है। अपनी आपबीती बताते हुए शोहरतगढ़ तहसील क्षेत्र के ग्राम अंतरी निवासी रफीक ने बताया कि रफीक पुत्र सलील के नाम से वर्ष 13.01.1981 का वसीयत है जो लगभग 40 वर्ष हो गया है, लेकिन सम्बन्धित ग्राम अंतरी बाजार तहसील शोहरतगढ़, जिला सिद्धार्थनगर के लेखपाल द्वारा वसीयत के आधार पर उद्धरण खतौनी के मुख्य खातेदार के रूप में नहीं अंकित किया जा रहा है। इस शिकायती प्रार्थना पत्र के साथ शिकायतकर्ता ने जिलाधिकारी को वसीयत की प्रति भी भेजी है।अब देखना है के सम्बन्धित लेखपाल द्वारा कौन सी कार्यवाही कब तक की जायेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here