भ्रष्टाचार मुक्त भारत अभियान व समाज सेवा को समर्पित एनजीओ परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी

0
995

पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
प्रयागराज

संगम/कुम्भ नगरी तीर्थराज प्रयागराज के धरती से एक एनजीओ परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी ने अन्य संस्थाओं से अलग हटकर नए अंदाज में कार्य करके राष्ट्रभक्ति की अलग अलख जगाने का बीड़ा उठाया है।

जानकारी के अनुसार परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी अपने मुख्यालय प्रयागराज से पंजीकृत सामाजिक संस्था है जोकि अपने अन्य अनेकों जनहित के कार्यों के साथ ही मुख्यतः बेसहारा निर्धन भारतीय नागरिकों को निःशुल्क विधिक सेवा प्रदान करते हुए भ्रष्टाचार मुक्त भारत अभियान चला रखा है। इस संस्था के प्रबन्धक राजेश कुमार पाण्डेय एडवोकेट ने बताया कि परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी वृक्षारोपण, निःशुल्क चिकित्सा शिविर, शिल्प उद्योग को बढ़ावा, खादी के प्रचार-प्रसार, राष्ट्र भक्ति जागरण, जन जागरण व विधिक जागरूकता सप्ताह आयोजन के साथ ही यह एनजीओ बेसहारा निर्धन भारतीय नागरिकों को निःशुल्क विधिक सेवा भी प्रदान करती है तथा भ्रष्टाचार मुक्त भारत अभियान के तहत विभिन्न विभागों, क्षेत्रों व अधिकारियों के भ्रष्टाचार व घोटालों के विरुद्ध भी कार्य करती है।

इस कड़ी में अभी तक इस एनजीओ ने बस्ती जनपद में वृक्षारोपण घोटाला, सीआरपीएफ प्रयागराज में डॉ0 दीप्ति शुक्ला का भ्रष्टाचार, महर्षि शिक्षा संस्थान का भ्रष्टाचार, बेसिक शिक्षा विभाग के उत्तर प्रदेश स्तरीय भ्रष्टाचार व घोटाले के तहत आरटीई ऐक्ट,2009 की धारा 18 व 19 के अंतर्गत मानक विहीन, गैर मान्यता प्राप्त, अवैध व अमान्य विद्यालयों के विरुद्ध कार्यवाही, संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज सहित अनेकों अधिकारियों के भ्रष्टाचार एवं प्रतापगढ़ में शिल्प मेले के आयोजन में अधिकारियों की मिलीभगत से हुए भ्रष्टाचार आदि अनेकों सफल कार्य किये गए हैं। जहाँ पूरे दुनिया मे लगभग सभी एनजीओ आर्थिक व शैक्षिक दृष्टिकोण से कार्य करती रही हैं वहीं आज के भौतिकवादी दुनिया मे सबसे अलग हटकर परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी द्वारा राष्ट्रहित में भ्रष्टाचार मुक्त भारत अभियान को सफलता पूर्वक चलाना एक सराहनीय कार्य है। इस संदर्भ में एक प्रश्न के जवाब में संस्था के प्रबन्धक राजेश कुमार पाण्डेय एडवोकेट ने बताया कि उनका एकमात्र सपना प्रत्येक बेसहारा व निर्धन व्यक्ति को भी न्याय सुलभ कराना व अपने देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाना है जिसके लिए प्रत्येक नागरिक यदि अपने दैनिक जीवन से मात्र 10 मिनट भी राष्ट्रहित चिंतन में दे व स्वयं किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार से दूर रहने का संकल्प ले ले तो निश्चित ही अपना भारत भ्रष्टाचार मुक्त हो जाएगा व भारत वर्ष पुनः विश्वगुरु बन जायेगा। अंत में उन्होंने अपना उद्देश्य बताते हुए कहा-
हमारा उद्देश्य।
भ्रष्टाचार मुक्त परिवेश।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here