उत्तर प्रदेश नगर पालिका वित्तीय संसाधन विकास बोर्ड के मा. सदस्यगणों की उपस्थिति में प्रयागराज मण्डल के नगर निकायो, नगर निगम, नगर पालिका परिषदों एवं नगर पंचायतों की मण्डलीय कार्यशाला का हुआ आयोजन

0
385

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज

उत्तर प्रदेश नगर पालिका वित्तीय संसाधन विकास बोर्ड के मा. सदस्यगण श्री ओ.एन.सिंह, श्री शिव शंकर सिंह, श्री शंकर सिंह एवं श्री ओम नारायण सिंह की उपस्थिति में सरकिट हाऊस के सभागार में प्रयागराज मण्डल के नगर निकायो, नगर निगम, नगर पालिका परिषदों एवं नगर पंचायतों की मण्डलीय कार्यशाला आयोजित की गयी। जिसमें नगरीकरण, आय, आय-व्यय, स्थापना पर व्यय, सेवाओं पर व्यय, जलापूर्ति, संसाधनो की मांग, सम्पति कर का प्रशासन, सम्पति कर, जल कर, कराच्छादन की स्थिति, करों की वसूली, सम्पत्ति कर क्षमता निर्धारण पर विचार-विमर्श, प्रति व्यक्ति भवन कर से आय एवं निकाय की स्वयं के स्वामित्व की सम्पत्तियों का विवरण आदि बिन्दुओं पर पावन प्रेजेंटेंशन के माध्यम से उपस्थित नगर निकायो, नगर निगम, नगर पालिका परिषदों एवं नगर पंचायतों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को विस्तार से बताया गया।
कार्यशाला मे सर्वप्रथम बढ़ रही जनसंख्या पर विचार-विमर्श किया गया। जिसमें जनसंख्या बढ़ने पर उन्हें दी जाने वाली मूलभूत सुविधाओं को और बेहतर बनाने तथा कर की वसूली पर प्रकाश डाला गया। इसी के साथ जनसंख्या को देखते हुए उसके मुताबिक इंफाक्ट्रेक्चर एवं नगरीकरण के साथ-साथ उद्योगों पर विचार किया गया। कार्यशाला में नगर पालिका के आय के स्त्रोत पर भी चर्चा की गयी। जिसमें नगर मे दी जा रही सुविधाओं के बदले मिलने वाले कर तथा उसकी वसूली की समीक्षा भी की गयी। जिसमे उपस्थित अधिकारियों को कर वसूली पर प्रकाश डाला गया। इसी तरह शहर की सफाई व्यवस्था को भी दुरूस्त करने पर प्रकाश डाला गया। सफाई कर्मियों से व्यवस्थित रूप से मानिटरिंग करते हुए शहर की सफाई व्यवस्थाओं को दुरूस्त रखने पर जोर दिया गया। इसी तरह जलकर की वसूली पर भी जोर दिया गया।
ज्ञातव्य है कि उत्तर प्रदेश नगर पालिका वित्तीय संसाधन विकास बोर्ड अपने उद्देश्यों की पूर्ति और नगरीय निकायों के संसाधनों में वृद्धि के उपायों के प्रति अधिकारियों को जागरूक करने तथा सम्पत्ति कर एवं अन्य करों के पारदर्शी निर्धारण जैसे विषयों को सम्यक रूप से परिचित कराने हेतु प्रदेश में मण्डल स्तरीय एक दिवसीय कार्यशालाओं की श्रृंखला आयोजित की जा रही है। जिसमें समस्त नगर पालिकाओं (नगर निगम, नगर पालिका परिषद् और नगर पंचायत) के अधिकारी प्रतिभाग करेंगे। मण्डल स्तरीय कार्यशालाओं से प्राप्त सस्तुतियों एवं विचारों को राज्य स्तरीय कार्यशाला में विचार-विमर्श किया जायेगा और बोर्ड तदनुसार राज्य सरकार को आवश्यक संस्तुतियाँ प्रस्तुत करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here