योगी जी हमें भ्रष्ट जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से बचाइए, सब कुछ ठीक नहीं है जनपद के जिला बेसिक शिक्षा कार्यालय में- नवजीत

0
627

पर्दाफ़ाश न्यूज़ टीम
सिद्धार्थनगर

उत्तर प्रदेश सरकार के मुखिया जीरो टॉलरेंस की बात कर रहे थे तो दूसरी तरफ प्रदेश के ही बेसिक शिक्षा विभाग के सिद्धार्थनगर जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी रामसिंह के विरोध जनता शिक्षकों के परिजन शिक्षक खुलकर विरोध कर रहे थे सबका एक ही नारा था कि जितने भी नए शिक्षक भर्ती हुए अभी तक उसमें से कईयों को वेतन नहीं मिला है और ना ही किसी को एरियर शिक्षा विभाग कार्यालय में बाबू के पास जाएगी तो वह कहता है कि बीएसए सर से मिलिए बी एस ए सर से मिलिए वह कहते हैं बाबू से मिलिए। वहीं कई लोगों ने बताया कि अगर वहां पर आप चढ़ावा चढ़ाते हैं जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को तो सारा कार्य आपका समय से हो जाएगा अगर आप नहीं चलाते हैं तो वह तत्काल कहते हैं फला बाबू से मिल लीजिए वह कर देगा उसके बाद आप दौड़ते रहे ही आप काम नहीं होने वाला है

नवनीत शिक्षक परिजन ने बताया कि शिक्षक और कर्मचारियों के साथ आम जनता भी वहां के जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से त्राहिमाम त्राहिमाम कर रही है वहां के जिला बेसिक शिक्षा निहायती ही भ्रष्ट और रिश्वतखोर है उन्होंने इंग्लिश मीडियम में बिना परीक्षा दिए ही कई लोगों को पास कर दिया, इस विषय का जांच किया जाना चाहिए-

साथ ही सुधीर झा ने कहा कि लंगड़ा दौड़ कर आता है लूला हाथ में बैग लेकर आता है बहरा को सब कुछ व्यक्ति सुनाई देता है अंधे को सब कुछ दिखाई देता है यह सब कहीं से अपना प्रमाण पत्र बनवा लिए हैं उसकी भी जांच की जानी चाहिए क्या वाकई सही है या फर्जी है –

नितेश कुमार शिक्षक परिजन ने आरोप लगाया कि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी पूर्व से भ्रष्ट है और उन्होंने इसका सारा रिकॉर्ड तोड़ दिया है उन्हीं के चलते आज शिक्षक समाज के कई तरह के आर्थिक और मानसिक तनाव का सामना करना पड़ रहा है जिसके लिए वह पूर्ण रूप से जिम्मेदार हैं उनके विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई करते हुए उनको जेल भेजा जाए –

नीतीश कुमार शिक्षक परिजन ने कहा कि हमारे परिवार वालों ने जब से नौकरी लगी है घर से आर्थिक मदद देना बंद कर दिए हैं और उम्मीद करने लगे हैं कि हमको भी कुछ मिलेगा परंतु विभाग में दौड़ते दौड़ते 10 महीना हो गया अभी तक मुझे वेतन नहीं मिला और मुझे हर तरह से परेशान किया जा रहा है और जो पैसा देता है उसका पूरा काम हो जाता है जो नहीं देता है उसे पूर्ण रूप से परेशान किया जाता है –

जानिए क्या है मामला- योगी सरकार के प्रथम भर्ती 68500 शिक्षक भर्ती के रूप में हुई जिसमें 10 महीने हो गए कुछ लोगों को छोड़ दिया जाए अधिक तारों को अभी तक वेतन नहीं मिला और एरियर का कोई पता नहीं हर कार्य विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों द्वारा आर्थिक और मानसिक रूप से परेशान किया जाता है जब तक कोई धन नहीं देता है उसका कार्य नहीं होता है।

इंग्लिश मीडियम पेपर में जो स्वयं अभ्यर्थी था उसको मूल्यांकन में शामिल किया गया और वह पहले से ही मॉडल विद्यालय पर कार्यरत भी था और उसे अपना ही विद्यालय मिला। कई लोग बिना परीक्षा दिए भी अंग्रेजी माध्यम में चयन हो गया।

परीक्षक कार्य लेना डायट का कार्य है पर अधिकतर समय वह कापी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के कार्यालय पर ही मौजूद रही।

कुछ प्राथमिक शिक्षक संघ के वरिष्ठ पदाधिकारियों द्वारा दो तरफा व्यवहार भी भ्रष्टाचार का बढ़ावा देता रहा।

वही कर्मचारियों के परिजन ने भी वर्तमान जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी रामसिंह पर खुल पर आरोप लगाया कि वह अपनी गलतियों को बहुत सफाई के साथ अपने कर्मचारियों को फंसाने का कार्य करते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here