परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी विचार- कभी भी मां-बाप की बातों को नजर अंदाज ना करें

0
543

आर के पाण्डेय की कलम से
प्रयागराज

मेरे प्यारे बंधुओं कभी भी मां-बाप की बातों को नजरअंदाज ना करें l उनके कहने के तौर-तरीकों पर ना जाए l बल्कि उनकी बातों में छिपे हुए उनके भाव और निस्वार्थ प्यार को समझें l जैसे-जैसे उम्र गुजरेगी वैसे वैसे आपको खुद एहसास होगा की मां बाप हर चीज के बारे में सही कहते थे l इस स्वार्थी दुनिया में सिर्फ मां – बाप ही एक ऐसा इंसान है l जो चाहता है कि मेरे बच्चे मुझसे भी ज्यादा कामयाब और दौलत वाले हो l मित्रों रिश्तो में इतनी गिरावट आई है l कि उसका अंदाजा लगाना मुश्किल है l अन्यथा पहले के पिता फादर डे के मोहताज नहीं होते थे l और छोटी- मोटी गलतियों पर जूता उठाकर याद दिला देते थे कि मैं बाप हूं l और उनकी औलाद आज की संतानों से ज्यादा संस्कारी और लायक निकलती थी l अतः आप लोग मां बाप की बहुमूल्य सुझाव और अनमोल बातों को बकवास मानकर नजरअंदाज ना करें l उन्हों उन्हें सकारात्मक तरीके से अपनाकर अपने जीवन को धन्य बनाने का सात्विक प्रयास करें l

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here