संत निरंकारी मिशन की शिक्षाओं को किया अमल, दान की आंखे

0
380

आर के पाण्डेय की रिपोर्ट
नैनी (प्रयागराज)

अपनी आंखें दान कर दो लोगों के जीवन में रोशनी भरने वाले राम नरेश चौहान ने न केवल संत निरंकारी मिशन की शिक्षाओं को अमल किया, बल्कि कर्म रूप में परिणित कर सहजता से अपने जीवन में उतारा भी।
नैनी त्रिवेणी नगर निवासी राम नरेश चौहन ने अपने जीवनकाल में आँख दान करने की बात कही थी, आज उनकी मौत हो गई। बेटा अनिल चौहान ने पिता की इच्छाओं को ध्यान में रखते हुए उनकी आंखों को दान कर दिया। सूचना पाकर आंखों की कार्निया लेने मनोहर दास नेत्र चिकित्सालय से तीन डॉक्टरों की टीम सायंकाल उनके घर पहुंची और कार्निया सुरक्षित कर ले गई।
डॉक्टरों की टीम ने बताया कि आंखे पूरी तरह से सुरक्षित हैं जिसे देर रात दो दृष्टि हीनो में प्रत्यारोपित कर दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here