प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया व सोशल मीडिया में वायरल खबरों का असर, संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज के खिलाफ जांच टीम का गठन, आरटीई ऐक्ट, 2009, आरटीआई ऐक्ट, 2005 व अधिकारियों के निर्देशों की जानबूझकर अवहेलना का है आरोप

0
680

आर. के पाण्डेय की रिपोर्ट
प्रयागराज

प्रयागराज जनपद के बीएसए संजय कुमार कुशवाहा पर लगे गम्भीर आरोपो की जाँच उप शिक्षा निदेशक (मा0) प्रयागराज करेंगे।

जानकारी के अनुसार संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज के विरुद्ध वर्षों से गम्भीर आरोप लगते रहे हैं परन्तु सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वह उ0प्र0 के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या के बेहद करीबी व कथित रिश्तेदारी के कारण बचते रहे हैं परन्तु प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक व सोशल मीडिया में उनपर लगे आरोपों की खबरे वायरल होने के बाद अंततः जांच गठित कर दी गई है। संयुक्त शिक्षा निदेशक (माध्यमिक), प्रयागराज मंडल, प्रयागराज के पत्रांक/शिविर/139/2019-20, दिनांक-12/04/2019 के अनुक्रम में मुहम्मद इब्राहिम, उप शिक्षा निदेशक (माध्यमिक), चतुर्थ मंडल प्रयागराज, प्रयागराज के पत्रांक पृष्ठांकन संख्या/वै0सहा0/1262-64/2019-20, दिनांक-06/05/2019 के अनुसार आगामी 16 मई 2019 को दिन में 11:30 बजे व्यक्तिगत रूप से समस्त अभिलेखों के साथ जांच हेतु संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज को उपस्थित होना है।
बता दें कि परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी के प्रबन्धक आर के पाण्डेय एडवोकेट हाई कोर्ट इलाहाबाद ने 06 मई 2017 से लगातार समक्ष सक्षम अधिकारी व आईजीआरएस पर जरिये शिकायत यह आरोप लगाते रहे हैं कि जनपद प्रयागराज में भी हजारों मानक विहीन, गैर मान्यता प्राप्त अवैध व अमान्य विद्यालयों का संचालन उपरोक्त बीएसए व उनके मातहत कर्मचारियों के संरक्षण में होता रहा है। संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए पर आरोप हैं कि वह आरटीई ऐक्ट,2009, आरटीआई ऐक्ट,2005 व उच्च अधिकारियों के निर्देशों की जानबूझकर अवहेलना करते रहे हैं व भ्रष्टाचार के आरोप भी उन पर साबित हुए हैं। मानक विहीन व आरोपित अवैध विद्यालयों को मनमाने तरीके से मान्यता प्रदान करने व शिकायतकर्ता की कूटरचित, फर्जी नोटरी एफीडेविट बनाकर उपयोग करने का भी आरोप इस बीएसए पर है परन्तु इतने गम्भीर प्रकरण के बावजूद सूत्रों के अनुसार संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए खुद को उ0प्र0 के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या का बेहद करीबी व कथित रिश्तेदार बताकर अधिकारियों के कार्यवाही से बचता रहा है। ताजा प्रकरण में उपरोक्त तथ्यों के आधार पर ही आशीष कुमार शुक्ला, समाजसेवी (प्रतापगढ़) द्वारा भी 30 नवम्बर 2018 व 02 अप्रैल 2019 को इन्ही आशय की शिकायत उपरोक्त बीएसए के खिलाफ लिखित शिकायत की गई थी जिसपर यह जांच गठित की गई है। उधर शिकायतकर्ता आर के पाण्डेय एडवोकेट व आशीष कुमार शुक्ला समाजसेवी का कहना है कि इस बीएसए के खिलाफ न्यायप्रद कार्यवाही व आरटीई ऐक्ट,2009 व आरटीआई ऐक्ट,2005 के पूर्णतया अनुपालन तक वे संघर्ष जारी रखेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here