भ्रष्टाचार का बोलबाला, बस्ती से बड़ी खबर- शिक्षा माफियाओं के चंगुल में शिक्षा विभाग, बीएसए व एबीएसए आदि पर आरटीई ऐक्ट, 2009 के खुले उल्लंघन का आरोप, अधिवक्ता ने की जिम्मेदार अधिकारियों पर एफआईआर व विधिक कार्यवाही की मांग

0
902

पर्दाफाश न्यूज टीम
(हर्रैया/परशुरामपुर, बस्ती)

जनपद बस्ती के हर्रैया व परशुरामपुर थाना क्षेत्रों में बीएसए बस्ती, एबीएसए व स्थानीय पुलिस अधिकारियों की मिलीभगत से शिक्षा विभाग में बड़े र्भ्ष्टाचार की खबर सामने आई है।
जानकारी के अनुसार आर के पाण्डेय एडवोकेट हाई कोर्ट इलाहाबाद ने अपने र्भ्ष्टाचार मुक्त भारत अभियान के तहत विगत 27 नवम्बर 2017, 22 अप्रैल 2019 व अन्य कई तिथियों में बस्ती जनपद के हर्रैया व परशुरामपुर थाना क्षेत्र में तमाम मानक विहीन व गैर मान्यता प्राप्त, अवैध व अमान्य विद्यालयों के अनवरत संचालन की शिकायत आईजीआरएस पर व अधिकारियों से की थी। आर0 के0 पाण्डेय एडवोकेट ने बताया है कि 2017 में बीएसए बस्ती ने लिखित रूप से इन अवैध विद्यालयों के संचालन की बात मानी थी जबकि दो साल बाद भी इनके अनवरत संचालन पर पुनः शिकायत की गई है।

अधिवक्ता आर के पाण्डेय

विधिक व्यवस्था- भारत वर्ष के अन्य राज्यों की ही तरह उत्तर प्रदेश में भी आरटीई ऐक्ट, 2009 लागू व प्रभावी है जिसकी धारा 18 (1), (2), (3), (4) के अनुसार उत्तर प्रदेश में भी बिना मान्यता प्राप्त किये कोई विद्यालय खोला ही नही जा सकता है अन्यथा की स्थिति में इस ऐक्ट की धारा 18(5) के तहत रु0 एक लाख एक बार व रु0 दस हजार प्रतिदिन के गुणक में जुर्माना वसूली की व्यवस्था है। मान्यता हो जाने पर भी मानक विहीन विद्यालय होने पर इसी ऐक्ट की धारा 19 के तहत मान्यता प्रत्याहरण की व्यवस्था है।

बीएसए, एबीएसए व पुलिस अधिकारियों के खेल- बीएसए, एबीएसए व स्थानीय पुलिस अधिकारी मिलकर 2009 से ही शिक्षा विभाग के र्भ्ष्टाचार के खेल में संलिप्त हैं। जानकारी के अनुसार जब इन अवैध विद्यालयों की शिकायत होती है तो सम्बंधित अधिकारी इन विद्यालयों के संचालकों को एक नोटिस जारी करके कुछ समाचार पत्रों में खबर छपवा देते हैं व लाखों रुपये का जुर्माना वसूलकर राजस्व में जमा करने के बजाय अपने कुछ व्यक्तिगत हित के लिए मामले को ठंडा कर देते है और र्भ्ष्टाचार का यही खेल 2009 से लगातार खेला जा रहा है।

क्या होना चाहिए- विधिक व्यवस्था, आरटीई ऐक्ट, 2009 व जीओ स0 442/79-6-11 की धारा 3 के अनुसार जिन मानक विहीन, गैर मान्यता प्राप्त अवैध व अमान्य विद्यालयों को प्रथम बार अवैध संचालन में पकड़ा जाता है उस तिथि में रु0 एक लाख व उस तिथि से अंतिम बार संचालन करते पकड़े जाने पर दोनों तिथियों का रु0 दस हजार प्रति दिन के गुणक में जुर्माना वसूलने के साथ ही भा0द0स0 की धारा 120बी, 417, 418, 419 व 420 के तहत आपराधिक एफआईआर दर्ज होकर कार्यवाही होनी चाहिए।

कौन है मूल दोषी-
आर के पाण्डेय एडवोकेट के अनुसार संसद द्वारा पारित कानून आरटीई ऐक्ट,2009 के अनुपालन की जिम्मेदारी बीएसए व एबीएसए की है अतएव 2009 से अभी तक इस ऐक्ट का जानबूझकर उल्लंघन के लिए व उनकी नोटिस पर एफआईआर दर्ज न करने के कारण बीएसए, एबीएसए व स्थानीय पुलिस अधिकारी सीधे दोषी हैं जिनके विरुद्ध विधिक कार्यवाही होनी चाहिए।
फिलहाल आज एक बार पुनः बस्ती जिले के हर्रैया व परशुरामपुर थाना के लगभग 50 अवैध विद्यालयों के अवैध संचालन की बीएसए, डीएम, पुलिस अधीक्षक, मुख्य सचिव , सीएम व राज्यपाल से लिखित शिकायत करते हुए आर के पाण्डेय एडवोकेट ने बीएसए, एबीएसए व स्थानीय पुलिस अधिकारियों के विरुध्द एफआईआर दर्ज करके विधिक कार्यवाही की मांग की है। इन मानक विहीन, गैर मान्यता प्राप्त, अवैध व अमान्य विद्यालयों में हर्रैया स्थित- गुरुकुल एकेडमी, आर0एस0 साइंस एकेडमी, किसान लघु माध्यमिक विद्यालय, हरदिया पूरे अजबी, एस0एन0एस0बी0 इंटर कालेज, डउहवा मिश्र, सी0एम0एस0 संस्थान स्कूल, कृष्णा नगर, ग्लोबल एकेडमी, महुघाट, राम उजागिर गुलाबा देवी पू0मा0 विद्यालय, रेवरदास, राम उजागिर गुलाबा देवी कान्वेंट स्कूल, रेवरादास, भिरवा, राम नाथ राम मनोरथ इंटर कालेज, दुहवा मिस्र, इंटरनेशनल एकेडमी, दुहवा मिश्र, सन राइज पब्लिक स्कूल, नदायें, संग्रामपुर, विशेषरगंज के आर0सी0 मेमोरियल एकेडमी, निदूरी, परशुरामपुर के आदर्श सरस्वती शिशु मंदिर, गोपिनाथपुर, सन राइज पब्लिक स्कूल, गोपिनाथपुर, स्कूल ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, बैजलपुर, सतीमाता प्राथमिक विद्यालय, सत्ती चौरा, नेवादा, आर0पी0 पब्लिक स्कूल, नेवादा, जनता इंटर कालेज, सत्ती चौरा, नेवादा, सन्तराम शिवनाथ बालिका इंटर कालेज, गोविंदापुर, वासदेवपुर, श्यामा देवी पब्लिक स्कूल, कुशमौरडीह,डॉ 0 भीमराव अंबेडकर शिक्षण संस्थान, जीतीपुर, लिटिल डायमंड एकेडमी, श्रृंगीनारी, भीमसेन सैनिक स्कूल, पितूड़ा, श्रृंगीनारी, एस0के0 इरादा मेमोरियल इंटर कालेज, अमौली, बाबूराम मिलन शुक्ल इंटर कालेज, करनपुर, मदरसा, जगन्नाथपुर, नरायन पब्लिक स्कूल पू0मा0वि0, नरायनपुर, चन्द्र सरस्वती शिशु मंदिर, लक्ष्मणपुर, सरस्वती शिशु नादिर, सहरिया, मदरसा, रोहदा, सेंट जेवियर्स उ0मा0वि0, रोहदा, सावित्री एजुकेशनल एकेडमी, जगन्नाथपुर, बाबूजी एजुकेशनल एकेडमी, जगन्नाथपुर, कौशलेंद्र पाण्डेय एजुकेशनल एकेडमी, बिलारी भीटी, जे0पी0 द्विवेदी मेमोरियल हायर सेकेंडरी स्कूल घनगहना, प0 श्रीकांत शुक्ल इंटर कालेज, नाथपुर पाण्डेय, मॉडर्न किड्स एकेडमी, विरता तिराहा, गायत्री विद्या मंदिर, कोहरायें, हरि मॉडर्न पब्लिक स्कूल, कोहरायें, श्री आर0एन0 तिवारी सरस्वती शिशु मंदिर, कोहरायें, आदर्श सरस्वती ज्ञान मंदिर पब्लिक दकूल, कोहरायें, सरस्वती शिशु मंदिर, घुरचा, एस0पी0एन0 इंटर कालेज, चांदनी चौक, प्रज्ञा देवी पू0मा0वि0, खेमराजपुर, पायनियर पब्लिक स्कूल, ढेलहूपुर, शेर बहादुर सिंह इंटर कालेज, रघुनाथपुर, श्री कृष्ण पाल विद्या मंदिर, चौबेपुर, सहरिया, श्री हनुमान शिक्षा निकेतन, मधुकरपुर, महेवा, सेंट जोसेफ स्कूल, नंद नगर, चौरी, जनपद-बस्ती आदि प्रमुख अवैध विद्यालय हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here