भ्रर्ष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई लड़ रहे अधिवक्ता आर.के.पाण्डेय, कहा- भ्रर्ष्टाचार मुक्त हो भारत

0
524

मुकेश गुप्ता की रिपोर्ट
प्रयागराज

बी0एस0ए0 प्रयागराज द्वारा किये गए साबित भ्रष्टाचार की लड़ाई अब लोकसभा चुनाव 2019 को प्रभावित करने की आशंका के बीच चुनाव आयोग के द्वार तक पहुंच गई है।
जानकारी के अनुसार परमेंदु वेलफेयर सोसाइटी के प्रबन्धक आर के पाण्डेय एडवोकेट हाई कोर्ट ने भ्रष्टाचार मुक्त भारत अभियान के तहत विगत कई वर्षों से भ्रर्ष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई लड़ रहे है व उन्होंने बेसिक शिक्षा विभाग के संजय कुमार कुशवाहा, बी0एस0ए0 प्रयागराज के साबित भ्रर्ष्टाचार को भी उजागर किया है। आरोप है कि आज भी हजारों मानक विहीन, गैर मान्यता प्राप्त, अवैध व अमान्य विद्यालय अनवरत चल रहे है व अनेको ऐसे मानक विहीन अवैध विद्यालयों को भी मान्यता प्रदान की गई है जिनका कोई मानक ही नही पाया गया व जांच में उपरोक्त की पुष्टि भी हो गई है। संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए द्वारा आरटीई ऐक्ट, 2009 व आरटीआई ऐक्ट, 2005 का जानबूझकर अनुपालन नही किया जाता व मुख्य सचिव उ0प्र0 सहित सभी उच्च अधिकारियों के निर्देशों की भी जानबूझकर अवहेलना की जाती है। बीएसए प्रयागराज पर उच्च न्यायालय इलाहाबाद के अधिवक्ता की फर्जी नोटरी एफिडेविट बनाकर उसका उपयोग का भी आरोप है जिसके सन्दर्भ में प्रभावित अधिवक्ता ने रु0 एक करोड़ की लीगल नोटिस भी बीएसए आदि को भेजी थी। सम्पूर्ण प्रकरण की आईजीआरएस पर व उच्च अधिकारियों से शिकायत की गई है। उधर संजय कुमार कुशवाहा बीएसए ने अपने स्टेनो सुरेश पटेल के माध्यम से अधिवक्ता को जान से मार देने की धमकी देते हुए शिकायत वापस लेने की हिदायत भी दी है। सुरेश पटेल व संजय कुमार कुशवाहा बीएसए ने आर के पाण्डेय एडवोकेट को बताया है कि बीएसए प्रयागराज वर्तमान डिप्टी डीएम केशव प्रसाद मौर्या के बेहद करीबी है इसलिए भाजपा सरकार के रहते बीएसए प्रयागराज के विरुद्ध कोई कार्यवाही नही होगी। इन सबके बीच पीड़ित शिकायतकर्ता ने बताया है कि जब बीएसए व उसके स्टेनो ने डिप्टी सीएम के करीबी होने का दावा किया है व भ्रर्ष्टाचार के इस ज्वलन्त मुद्दे पर जब कोई कार्यवाही नही हो रही है तो यह भी स्पष्ट है कि डिप्टी सीएम के गृह जनपद में उसके करीबी बीएसए का रहना चुनाव को प्रभावित करेगा क्योंकि बीएसए अपने मातहत कर्मचारियों की मदद से चुनाव को एक फल विशेष के पक्ष में प्रभावित करेगा। आज शिकायतकर्ता ने मुख्य चुनाव आयुक्त, चुनाव आयुक्त उ0प्र0, जिला निर्वाचन अधिकारी प्रयागराज, डीएम, केशव प्रसाद मौर्या डिप्टी सीएम, डॉ0 दिनेश शर्मा डिप्टी सीएम, सीएम, मुख्य सचिव, राज्यपाल, पीएम, राष्ट्रपति, लोकायुक्त, लोकपाल, महानिबंधक व मुख्य न्यायाधीश हाई कोर्ट इलाहाबाद, महानिबंधक व मुख्य न्यायाधीध सुप्रीम कोर्ट को शिकायत भेजकर भ्रर्ष्टाचार के दोषी संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज आदि के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करके विधिक कार्यवाही व लाई डिटेक्टर टेस्ट कराने एवं निष्पक्ष चुनाव के लिए बीएसए प्रयागराज को सुदूर जिले में ट्रांसफर करने का भी अनुरोध किया है। आर के पाण्डेय एडवोकेट ने यह भी स्पष्ट कहा है कि यदि उनकी हत्या या अस्वाभाविक मौत होती है तो इसके लिए सिर्फ संजय कुमार कुशवाहा, बीएसए प्रयागराज, रमेश तिवारी, एडी बेसिक प्रयागराज, आरोपी प्रबन्धक सुरेंद्र नाथ तिवारी व इन आरोपियों के सहयोगियों को ही जिम्मेदार मानकर उनके विरुद्ध आपराधिक मुकदमा चलाया जाए। आर के पाण्डेय एडवोकेट ने विश्वास व्यक्त किया है कि एक दिन वह भ्रर्ष्टाचार मुक्त भारत अभियान को सफल बनाने में अवश्य ही सफल होंगे।

शिकायत पत्र पेज 1

शिकायत पत्र पेज 2

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here