सत्यापन में दूसरे के नाम से निकला अंक प्रमाण पत्र , आर टी आई में हुआ खुलाशा, आंगनवाड़ी कार्यकत्री के नियुक्ति का है मामला

0
656

पर्दाफ़ाश न्यूज़
सिद्धार्थनगर

सूचना का अधिकार अधिनियम कानून ने भ्रष्टाचार के खुलाशे में अहम रोल अदा करता है, जिसका उदाहरण जनपद के भनवापुर ब्लाक क्षेत्र में देखने को मिला। दस्तावेज से मिली जानकारी के अनुसार आंगनबाड़ी कार्यकत्री में फर्जी दस्तावेज के आधार पर नौकरी करने का प्रकरण सामने आया है। खुरपहवा गांव मे तैनात आंगनबाड़ी कार्यकत्री श्रीमती मायादेवी पत्नी माता प्रसाद कार्यरत है क्षेत्र के विजयपाल चतुर्वेदी ने सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 के तहत कार्यकत्री मायादेवी के शैक्षिक योग्यता प्रमाण पत्रो की सूचना बाल विकास परियोना अधिकारी भनवापुर से मांगी थी विभाग द्वारा प्राप्त सूचना के आधार पर 2002 मे पूर्व मध्यमा की डिग्री ब्लाक क्षेत्र के रामदास त्रिपाठी संस्कृत विद्यापीठ सरोथर कठौतिया (लंगड़ी डीह) सरोथर कटौतिया से प्राप्त किया जिसका अनुक्रमांक 214219 है आवेदक द्वारा सत्यापन के बाद विद्यालय के रिकार्ड मे 214219 अनुक्रमांक पर 2002 मे नीलम नाम की छात्रा ने अध्यन किया है जिसकी शिकायती पत्र बाल विकास परियोजना अधिकारी भनवापुर को दे कर कारर्वाई की मांग की है। अब देखना यह है कि अधिकारी कौन से कार्यवाही कब तक करेंगे। वैसे कार्यवाही की मांग पर आवेदक के बिरुद्ध षणयंत्र रचने की भी बात बताई जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here